Breaking News

कैबिनेट मंत्री के ओएसडी का जलवा, ट्रेन में लगा ज्यादा कोच

लखनऊ: दिवाली के लंबे अवकाश के बाद भले ही आम जनता ट्रेन में स्थान पाने को तरस गई, लेकिन नरेंद्र मोदी गवर्नमेंट के कैबिनेट मंत्री के ओएसडी का जलवा कल लोगों ने देखा. लखनऊ में ओएसडी के लिए पद्मावत एक्सप्रेस ट्रेन में एसी फस्र्ट क्लास का अलावा कोच लगा. इतना ही नहीं इस प्रक्रिया में ट्रेन का प्लेटफार्म भी बदला गया  ट्रेन करीब एक घंटा विलंबित की गई.

नरेंद्र मोदी गवर्नमेंट के एक कैबिनेट मंत्री के ओएसडी के लिए रेलवे ने कल अपने सभी नियम ताक पर रख दिए. एक तरफ सैकड़ों आम यात्री वेटिंग लिस्ट रह गए तो दूसरी ओर रेलवे ने ओएसडी को परिवार सहित दिल्ली भेजने को पद्मावत एक्सप्रेस में एसी की कंपोजिट वाली अलावा बोगी लगा दी.रेलवे के एक ऑफिसर को इस ओएसडी की अगवानी के लिए स्टेशन पर तैनात किया गया. बोगी लगाने के उपक्रम में ट्रेन का प्लेटफार्म बदल दिया गया. करीब एक घंटा ट्रेन प्रभावित हुई.

यह ओएसडी लखनऊ में भी पूर्व में एक उच्च पद पर तैनात रहे चुके हैं. परिवार सहित दिल्ली जाने के लिए उनको वीआइपी कोटे में सीट नहीं मिली. इस पर रात करीब आठ बजे उन्होंने दिल्ली फोन किया. दिल्ली से लखनऊ के अधिकारियों को ओएसडी के लिए अलावा बोगी का बंदोवस्त ट्रेन 14207 पद्मावत एक्सप्रेस में करने का फरमान रात 8:40 बजे जारी किया गया. पद्मावत एक्सप्रेस का चार्ट शाम 5:40 बजे ही बन चुका था. चार्ट बनने के बाद भी एसी सेकेंड और एसी फस्र्ट में दर्जनों यात्री वेटिंग में रह गए.

उधर ट्रेन आने के केवल 55 मिनट पहले आदेश मिलने के बाद एक एसी सेकेंड और एसी थर्ड बोगी को ओएसडी के परिवार के लिए कागजों पर फिटनेस दे दिया गया. लखनऊ में ट्रेन रात 9:25 बजे आने वाली थी, लेकिन बोगी लगाने के लिए इसका प्लेटफार्म दो नंबर से छह नंबर कर दिया गया. इसके चलते ट्रेन आउटर पर ही खड़ी रही. इस बीच यार्ड से अलावा बोगी की शंटिंग का कार्य भी पूरा कर लिया गया. आकस्मित प्लेटफार्म बदले जाने से प्लेटफार्म दो के यात्रियों को भागकर प्लेटफार्म छह पर आना पड़ा. रात 10:15 बजे ट्रेन प्लेटफार्म छह पर आयी. अलावा बोगी को रेलवे ने पीछे की तरफ लगा दिया. ट्रेन रात 10:35 बजे रवाना हुई.

रेलवे को नुकसान

यह भी पढ़ें:   कोलकाता हवाई अड्डे से 37 लाख की नई करेंसी के साथ दो हुए गिरफ्तार

ओएसडी  बरेली निवासी एक पूर्व मंत्री सहित आधा दर्जन वीआइपी सवार हुए. किसी ने भी इस ट्रेन का वेटिंग लिस्ट का टिकट नहीं खरीदा था. उन्होंने जनरल का टिकट लिया था. टीटीई ने बीच रास्ते उनके एसी  जनरल के किराए के अंतर की रसीद बनायी. वहीं चार महीने पहले लाइन लगकर वेटिंग का टिकट लेने वाले यात्रियों को राहत नहीं मिल सकी.

loading...

समय में खेल

रेलवे बोर्ड को भ्रमित करने के लिए ट्रेन के समय में भी खेल किया. ट्रेन रात 10:15 बजे लखनऊ आयी लेकिन कंट्रोल रूम ने नेशनल ट्रेन इंक्वायरी के सिस्टम में उसे रात 9:35 बजे आकर 9:55 बजे प्रस्थान करना दिखाया गया. रात 10:35 बजे ट्रेन रवाना हुई जबकि रात 10:02 बजे ट्रेन को आलमनगर पार करना दिखा दिया गया.

अफसरोंकेमोबाइलबंद

यह भी पढ़ें:   यौन उत्पीड़न से परेशान युवती ने चाकू से काट डाला ‘बाबा’ का प्राइवेट पार्ट

नियम उल्टा एक ओएसडी के लिए अलावा बोगी की व्यवस्था के लिए सहायक वाणिज्य प्रबंधक बृजबहादुर को स्टेशन भेजा गया. स्टेशन प्रबंधक बीएस गिल भी देर रात तक ओएसडी के लिए बोगी का बंदोवस्त करने में जुटे रहे. बोगी लगाने के बाद दो रेलवे अफसरों ने अपने फोन बंद कर दिए. कुछ देर बाद उनका फोन खुला तो उन्होंने कॉल ही रिसीव नहीं की.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *