रामनाथ कोविंद ने कहा की देश में देहदान व अंगदान की परंपरा प्रारम्भकरें

\\\\Image result for राष्ट्रपतिनई दिल्ली: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने बोला कि देशवासी देहदान अंगदान की परंपरा प्रारम्भ करें. कई बार एक अंग न मिलने से लोगों को ज़िंदगी से हाथ धोना पड़ता है, इसलिए प्रयास करें कि मृत्यु के बाद भी बॉडीकिसी के कार्य आ सके. राष्ट्रपति शुक्रवार को संत कबीर प्रकटोत्सव को संबोधित कर रहे थे.

उन्होंने बोला कि लोगों को इस विषय में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के नेता नानाजी देशमुख से सीख लेनी चाहिए. राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार मध्य प्रदेश आए कोविंद ने कबीरदास का उदाहरण देते हुए बोला कि अंधविश्वास को समाप्त करना ही सही मायनों में आधुनिकता है. बनारस में देह त्यागकर मोक्ष पाने के अंधविश्वास को कबीरदास ने ही तोड़ा था. ऐसे ही समाज में व्याप्त तमाम अंधविश्वासों को समाप्त करने की आवश्यकता है. कबीर का मध्य प्रदेश से गहरा नाता रहा है. कबीर के समावेशी सिद्घांतों पर ही शिवराज सिंह चौहान की गवर्नमेंट कार्य कर रही है. लाडली लक्ष्मी योजना की तारीफ करते हुए बोला कि प्रदेश के बच्चे शिवराज को मामा कहते हैं, इसलिए शिवराज ने इस योजना को प्रारम्भ किया है. कोविंद ने प्रदेश की आर्थिक  कृषि एरिया में हुई तरक्की की भी तारीफ की.

झलकारी बाई की प्रतिमा का अनावरण

यह भी पढ़ें:   आशंकाओं को दूर करने के लिए चुनाव आयोग ने 12 मई को बुलाई बैठक
loading...

राष्ट्रपति ने गुरु तेगबहादुर कॉम्पलेक्स में रानी लक्ष्मी बाई की सहयोगी झलकारी बाई की प्रतिमा का अनावरण भी किया. झलकारी बाई 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान रानी लक्ष्मीबाई की विशेष सलाहकार थीं. प्रकटोत्सव को संबोधित करते हुए शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की कि प्रदेश के दो विश्वविद्यालयों में कबीर सृजन पीठ की स्थापना की जाएगी. इसके साथ ही उनकी जन्मस्थली  उनसे जुड़े अन्य जरूरी तीर्थ स्थल को CM तीर्थ दर्शन योजना में शामिल किया जाएगा.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   5 अगस्त तक बढ़ी आयकर रिटर्न दाखिल करने की समय सीमा
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *