Breaking News

सभी राष्ट्र उत्तर कोरिया के साथ व्यापार रोकें : डोनाल्ड ट्रंप

बीजिंग/नई दिल्ली : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार (9 नवंबर) को सभी राष्ट्रों से आग्रह किया कि वे ‘हत्यारे उत्तर कोरियाई परमाणु शासन’ को न तो असलहा मुहैया कराएं, न उसका वित्तपोषण करें  उसके साथ व्यापार को रोक देंचाइना के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के साथ ग्रेट हॉल में संयुक्त कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए ट्रंप ने बोला कि दोनों नेताओं ने उत्तर कोरियाई संकट को हल करने के लिए असफल उपायों को नहीं दोहराने पर सहमति जाहीर की हैट्रंप चाइना के तीन दिवसीय दौरे पर पहुंचे हैं चीन, उत्तर कोरिया का सहयोगी है  व्यापार में सबसे बड़ा साझेदार है

वॉशिंगटन का मानना है कि नजदीकी संबंधों के कारण बीजिंग का प्योंगयांग पर अधिक असर है आधुनिक चाइना के निर्माता कहे जाने वाले माओ त्से तुंग के एक पुत्र 1950 के दशक में अमेरिका के विरूद्ध कोरिया में लड़ाई के दौरान मारे गए थे ट्रंप ने कहा, “राष्ट्रपति शी  हमने उत्तर कोरिया के पूर्ण रूप से परमाणु निरस्त्रीकरण की हमारी परस्पर प्रतिबद्धता पर चर्चा की है ”

उन्होंने कहा, “हम अतीत के अपने असफल प्रयासों को नहीं दोहराने के लिए सहमत हुए हैं   हम उत्तर कोरिया पर सुरक्षा परिषद के सभी प्रस्तावों को पूरी तरह से लागू करने  आर्थिक दबाव को बढ़ाने के लिए सहमत हुए हैं यह प्रतिबंध तब तक लागू रहेंगे जब तक उत्तर कोरिया अपने लापरवाह खतरनाक रास्ते का त्याग नहीं करता है ” उन्होंने कहा, “सभी जिम्मेदार राष्ट्रोंको हत्यारे उत्तर कोरियाई परमाणु शासन को असलहा नहीं देना चाहिए, वित्तपोषण नहीं करना चाहिए  व्यापार को रोकने के लिए साथ हो जाना चाहिए ”

यह भी पढ़ें:   भारत के दबाव से तिलमिलाए चीन की नई धमकी...

चीन का कहना है कि वह संयुक्त देश के बताए ढांचे के मुताबिक उत्तर कोरिया पर लगाम लगाने के लिए हर संभव प्रयास करेगा, लेकिन वह इस राष्ट्र के विरूद्ध एकपक्षीय प्रतिबंध लगाने के पक्ष में नहीं है ट्रंप ने कहा, “जब तक हम दूसरों के साथ मिलकर खड़े रहेंगे, आवश्यकता पड़ने पर उनके विरूद्ध जो हमारी सभ्यता के लिए खतरा बन चुके हैं, तो यह खतरा कभी हमारे सामने नहीं आएगा इसे कभी पनपने का मौका नहीं मिलेगा ”

उन्होंने कहा, “जैसा कि मैंने सियोल में अपने संबोधन में बोला थी कि समूचे विश्व को उत्तर कोरिया की इस धमकी के विरूद्ध इकठ्ठा हो जाना चाहिए  अब पूरा विश्व हमें देख रहा है ” ट्रंप ने कहा, ” साथ मिलकर हम इतने सक्षम हैं कि इस एरिया  विश्व के सबसे गंभीर परमाणु खतरे से निपट सकें लेकिन, शांति को जीतने के लिए एक सामूहिक प्रयास, सामूहिक शक्ति  सामूहिक भाव की आवश्यकता है ” उत्तर कोरिया को भय है कि अमेरिका उसे दक्षिण कोरिया में मिलाना चाहता है

यह भी पढ़ें:   भेडियो की तरह 15 साल की लड़की के जिस्म से हवस की प्यास मिटाते रहे कई दरिंदे...
loading...

वहींं दूसरी ओर चाइना ने गुरुवार (9 नवंबर) को बोला राष्ट्रपति शी चिनफिंग उनके अमेरिकी समकक्ष डोनाल्ड ट्रंप के बीच आतंकवाद से लड़ने  दक्षिण एशिया में शांति एवं स्थिरता कायम रखने के लिए आम सहमति बनी हैअमेरिका की ओर से आतंकवाद के पनाहगाहों को नेस्तनाबूद करने के लिए पाक पर दबाव बनाया जा रहा है बातचीत के दौरान यहां शी  ट्रंप ने अफगानिस्तान पर चर्चा की  उसके शांतिपूर्ण भविष्य की दिशा में कार्य करने के लिए प्रतिबद्धता जतायी 

चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ‘आज प्रातः काल दोनों राष्ट्रपति ने वार्ता की  संयुक्त रूप से प्रेस मीटिंग की मुझे बातचीत के ब्यौरे की जानकारी नहीं है जितना मुझे पता है कि दोनों पक्षों ने आतंकवाद निरोध के मुद्दों  दक्षिण एशिया में शांति एवं स्थिरता कायम रखने पर भी चर्चा की ’

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *