Friday , April 27 2018
Loading...

एप्पल iPhone X आई आईडी के यह फीचर से लोग दीवाने हो रहे हैं

Image result for एप्पल iPhone X का फेस आईडी फीचर

एप्पल के किसी भी प्रोडक्ट को लेकर लोगों की उत्सुकता  दीवानगी समय के साथ बढ़ती ही जाती है. इस बार भी आईफोन एक्स ने खूब सुर्खियां बटोरीं हमेशा की तरह एप्पल के दीवानों ने घंटों लाइन में लगकर यह फोन खरीदा.आइफोन एक्स के लिए लोगों की दीवानगी का एक बड़ा कारण इस फोन की बैजललेस डिस्प्ले  फेस आईडी है. पहली बार किसी फोन में 3डी फेस आईडी का प्रयोग किए जाने के कारण यह तकनीक बहुत ज्यादा सुर्खियों में रही. साथ ही यह कितनी सिक्योर है, इस पर भी सवाल उठते रहे हैं. यह भी देखने वाली बात थी कि क्या यह फिंगर प्रिंट की तरह जल्दी  सरलता से फोन अनलॉक कर सकेगी. अगर एप्पल के टच आईडी फिंगरप्रिंट सेंसर की बात की जाए, तो यह बहुत तेज  सटीक तौर पर कार्य करता है. ऐसे में एप्पल के आईफोन एक्स में टच आईडी की स्थान फेस आईडी को प्रयोग करना एक चौंकाने वाला कदम था.
आईफोन एक्स से पहले भी एप्पल के सबसे बड़े प्रतिद्वंद्वी एंड्रॉयड फोन्स में फेसियल रिकॉगनिशन टेक्नॉलाजी का प्रयोग किया जा चुका है. सैमसंग का खास अनलॉक फीचर आइरिस को स्कैन करता है.  देखा गया है कि सिर्फ आईग्लास पहनने भर से भी यह फीचर अपना कार्य अच्छा ढंग से नहीं कर पा रहा था. इसके बाद परंपरागत पिन डालकर फोन अनलॉक करना पड़ा.इसका कारण यह भी है कि एंड्रॉयड में उपभोक्ता के फेस को टू-डाइमेन्शनल कैमरा शॉट से स्कैन किया जाता है. वहीं आईफोन एक्स का फेस आईडी उपभोक्ता के चेहरे को थ्रीडी स्कैन करता है. आईफोन एक्स के फेस आईडी में अपना चेहरा रजिस्टर करते समय आईफोन आपको चेहरा घुमाने के लिए गाइड करता है, ताकि आपके चेहरे को थ्रीडी स्कैन कर सके.

यह भी पढ़ें:   स्मार्टफोन निर्माता श्याओमी ने अपने रेडमी 4 लांच, जानें इसका कीमत
Loading...
loading...

एप्पल का दावा है कि आईफोन एक्स का फेस आईडी उपभोक्ता के चेहरे के लगभग तीस हजार प्वाइंट्स को स्कैन करेगा, जिससे समय के साथ चेहरे पर होने वाले बदलावों के बावजूद भी फेस आईडी उपभोक्ता के चेहरे को पहचान पाएगा. उदाहरण के लिए चश्मा पहनना या हैट लगाना और बढ़ती आयु के परिवर्तन के बावजूद भी फेस आईडी अपना कार्य बखूबी करता है. साथ ही एप्पल का यह भी दावा है कि हर बार फेस से फोन को अनलॉक किए जाने पर यह तकनीक उपभोक्ता के चेहरे पर होने वाले छोटे-मोटे बदलावों को स्कैन कर लेती है. वहीं दूसरी ओर एंड्रॉयड में चेहरे पर बदलावों के होने की स्थिति में उपभोक्ता को सेटिंग्स में जाकर फेस को दोबारा रजिस्टर करना होता है.आईफोन एक्स के फेस आईडी की भी सीमाएं हैं. यदि उपभोक्ता लंबे समय बाद शेव करता है, तो आसार है कि आइफोन एक्स का फेस आईडी भी उपभोक्ता को पहचान न पाए. ऐसे में उपभोक्ता को पासकोड डालकर फोन को अनलॉक करना होगा. वहीं फोन के अनलॉक होने पर फेस आईडी उपभोक्ता के चेहरे के बदलावों को आगे के लिए सेव कर लेगा.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   Oppo F3 की मूल्य में हुई भारी कटौती तो जल्द करें
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *