Breaking News

इंसानों का जाना है मना, ये सांपों की बस्‍ती है

Image result for ये सांपों की बस्‍ती हैसांपों की बस्‍ती

ब्राजील में एक आईलैंड है इलाहा दा क्यूइमादा जिसे अब सांपों के आइलैंड के नाम से जाना जाना जाता है. ऐसा इसलिए क्‍योंकि इस आईलैंड पर संसार के सबसे ज्‍यादा सांप रहते हैं, इतने कि इंसान का वहां रहना तो दूर जाना तक मना है. ये चेतावनी ब्राजील गवर्नमेंट की तरफ से जारी की गई है. ये सांप इतने जहरीले है कि इंसान की डसते ही मौत हो जाती है  बॉडी काला पड़ जाता है.

पहले नहीं था ये हाल

अगर सूत्रों की मानें तो इस आईलैंड पर ये स्‍थिति हाल के वर्षों में बनी है पहले ऐसा नहीं था. इस आईलैंड पर सांप पाये जरूर जाते थे पर उनकी तादात इतनी ज्‍यादा नहीं थी. इस आईलैंड पर एक लाइट हाउस भी मौजूद था  उसकी देखभाल के लिए नियुक्‍त एक कर्मचारी अपने परिवार सहित वहां रहता था.सांपों की बढ़ती संख्‍या इसी कर्मचारी के चलते सामने आयी. इस शख्‍स के घर की खिड़की को कांच एक दिन टूट गया  कुछ सांप उसके घर में घुस आये. वो अपने परिवार सहित बाहर भागा, ताकि तट पर बंधी नाव पर बैठ कर उस स्थान से दूर चला जाये, लेकिन ऐसा नहीं हो सका. अगले दिन जब नेवी का जहाज आईलैंड पर परिवार की आवश्यकता का सामान देने पहुंचा तो पूरे परिवार की काली पड़ी लाशों ने उनका स्‍वागत किया.

यह भी पढ़ें:   ये हैं दुनिया का सबसे रहस्यमयी मंदिर, देखें विडियो
loading...
Loading...

पिट वाइपर के साम्राज्‍य को मिली स्‍वीकृति, इंसानों का जाना बंद

इस घटना के बाद लाइट हाउस को हमेशा के लिए बंद कर दिया गया ब्राजीलियन गवर्नमेंट ने इस आइलैंड पर इंसानों के जाने प्रतिबंध लगा दिया.हालांकि कई दुस्‍साहसी लोगों ने बाद में चुपके से वहां घुसने का कोशिश किया पर उनमें से कोई लौट कर वापस नहीं आया. ऐसा बोला जाता है कि 4,30,000 वर्ग मीटर में फैले इस आइलैंड पर करीब 20,00,000 जहरीले सांप हैं जिन्‍हें गोल्डन पिटवाइपर बोला जाता है. सूत्रों के अनुसार इलाहा दा क्यूइमादा आइलैंड पर प्रवासी पक्षियों के बहुतायत में आने को पिट वाइपर सांपों की बढ़ती आबादी का जिम्मेदार माना जाता है. बहरहाल वजह जो भी हो ये अब शायद संसार का अकेला स्‍थान है जहां पर इंसानों का नहीं सांपों का शासन है.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   बेफिक्र होकर महिला कर रही थी कार ड्राइव तभी सामने की कांच पर आ गया खतरनाक सांप और फिर हुआ कुछ ऐसा
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *