Breaking News

पीएम की एक योजना के नाम पर चल रहा था फर्जीवाड़ा

Image result for पीएम की एक योजना के नाम पर चल रहा था फर्जीवाड़ाप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर चल रही एक योजना के नाम पर फर्जीवाड़े को लेकर अमर उजाला में प्रकाशित समाचार के बाद खुद मंत्रालय ने संज्ञान लिया है. नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एनएसडीसी) की कार्रवाई के बाद मंत्रालय ने चंडीगढ़ के एक फर्जी पते पर चल रही कंपनी को फ्रॉड घोषित कर दिया है. मंत्रालय ने इस फर्जी कंपनी की पूरी जानकारी वेबसाइट पर भी अपलोड कर दी है. ताकि कौशल विकास योजना के नाम पर बेरोजगार युवाओं के साथ हो रहे फर्जीवाडे़ को रोका जा सके.

मंत्रालय ने चंडीगढ़ के सेक्टर-12 सी-111/16 के फर्जी पते से कौशल विकास योजना के नाम पर युवाओं को जारी हो रही फर्जी नियुक्ति को लेकर पूरी जानकारी वेबसाइट पर अपलोड कर दी है. ताकि युवाओं के साथ किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी न हो सके. बता दें कि चंडीगढ़ में एक फर्जी पते पर पीएम कौशल विकास योजना के नाम पर कंपनी चलाई जा रही थी. जोकि बेरोजगार युवाओं को कैशल विकास योजना के तहत रोजगार देने के नाम पर काली कमाई कर रही थी.

यह भी पढ़ें:   बड़ी खुलासा: 15 अगस्त के बाद सीधे 26 जनवरी को मास्टरजी पहुंचे स्कूल

इस फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ जब ग्वालियर के एक युवक के साथ हुए धोखाधड़ी का खुलासा हुआ. ग्वालियर निवासी सौमित्र कुमार ने इसकी शिकायत दी थी कि चंडीगढ़ के सेक्टर-12 सी-111/16 के फर्जी पते से उसे एक अप्वाइंटमेंट पत्र आता है. इस फर्जी पत्र में कंपनी की ओर से लिखा जाता है कि युवक का हिंदुस्तान गवर्नमेंट के पीएम कौशल विकास योजना के भीतर ग्राहक सेवा प्रतिनिधि के पद पर चयन हो गया है. इसके लिए युवक को 24,500 रुपये प्रतिमाह वेतन भी दिया जाएगा.
कंपनी की ओर से एक व पत्र भेजा जाता है कि ज्वाइनिंग से पहले रजिस्ट्रेशन और वेरिफिकेशन के लिए युवक को 2200 रुपये जमा कराने होंगे. इसके अतिरिक्त जॉब ज्वाइन करने से पहले ट्रेनिंग के लिए 15 हजार रुपये सिक्योरिटी जमा करानी होगी, जोकि बाद में रिफंड कर दी जाएगी. इस पर युवक ने जब कंपनी के कस्टमर केयर नंबर पर फोन किया व पत्र पर बताए पते पर संपर्क किया, तब युवक के सामने कौशल विकास योजना के नाम पर चल रहे फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ.

यह भी पढ़ें:   दिवाली की बम्पर लूट, 42 हजार में बिका लखनऊ से मुंबई जाने का हवाई टिकट
Loading...
loading...

अमर उजाला ने नेशनल स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एनएसडीसी) के चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा व हिमाचल के राज्य प्रमुख रजत भटनागर से बात की. उन्होंने बताया कि अमर उजाला में समाचार प्रकाशित होने के बाद उन्होंने यूटी प्रशासन और एनएसडीसी की एक टीम पत्र पर बताए गए पते पर भेजी. वहां एक भी कंपनी इस नाम से नहीं थी. रजत भटनागर ने बताया कि इसकी शिकायत पीएमओ व पीएम कौशल विकास योजना मंत्रालय को भी भेज दी गई. ताकि इस पर उचित कार्रवाई की जा सके.

मंत्रालय की ओर से सूचना जारी कर इस कंपनी को फ्रॉडलेंट घोषित कर दिया गया है. रजत ने बताया कि इस प्रकार की शिकायतें पहले भी आ चुकी है. मंत्रालय की वेबसाइट पर सभी फर्जी कंपनी की लिस्ट साझा की गई है. जोकि प्रतिदिन अपडेट की जाती हैं.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *