Thursday , April 26 2018
Loading...

बड़ा खुलासा: बाबा के ‘सेक्स जेल’ से निकली लड़कियों ने खोला शर्मनाक सच

Image result for बाबा के 'सेक्स जेल' से निकली लड़कियों ने खोलादिल्ली के विजय विहार में चल रहे आध्यात्मिक विश्व विद्यालय में बाबा राम रहीम के सिरसा आश्रम जैसा ही एक  आश्रम सामने आया है. आरोप है कि यहां पर कई लड़कियों और स्त्रियों को बंधक बनाकर रखा गया  उनका यौन शोषण किया गया. इन लड़कियों को उनको माता-पिता से मिलने भी नहीं दिया जाता है.
हाईकोर्ट ने इस पर कड़ा रुख अपनाते हुए पहले दिल्ली महिला आयोग औरपुलिस को इस आश्रम का निरीक्षण करने का आदेश दिया. वहीं, अब दिल्ली न्यायालय ने इस आश्रम में लड़कियों  स्त्रियों के यौन शोषण की जांच के लिए CBI को आदेश दिया है. आदेश के मद्देनजर मंगलवार देर रात तक आश्रम का निरीक्षण किया गया. दिल्ली महिला आयोग को बुधवार को न्यायालय में रिपोर्ट पेश करने का आदेश दिया है. यह आदेश न्यायालय ने एक एनजीओ की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया. वहीं न्यायालय ने केंद्र और दिल्ली गवर्नमेंट को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है. न्यायालय ने दिल्ली महिला आयोग और कई वकीलों को लेकर जांच के लिए कमेटी बनाई है.
कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश की खंडपीठ ने बोला कि आश्रम में युवतियों औरस्त्रियों को अध्यात्म के नाम पर बंधक बनाकर रखा जा रहा है, यह बेहद खतरनाक है. यह वैसा ही है जैसा हरियाणा के सिरसा में हो रहा था. खंडपीठ ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को आदेश दिया है कि वह डीसीपी स्तर के ऑफिसरको नियुक्त कर आध्यात्मिक विश्वविद्यालय का फौरन निरीक्षण करवाए. यह आश्रम रोहिणी के विजय विहार इलाके में ए-/351-352 पर स्थित है. कोर्ट ने पुलिस को दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के साथ आश्रम में जाने  निरीक्षण करने का आदेश दिया. न्यायालय ने बोला कि इस पूरे निरीक्षण की वीडियोग्राफी कराई जाए. जिन तीन लड़कियों के माता-पिता न्यायालय आए हैं, उनको मुक्त करवाकर न्यायालय में पेश किया जाए.
इसके लिए दिल्ली पुलिस के स्थायी अधिवक्ता राहुल मेहरा पुलिस के साथ तालमेल करें. न्यायालय ने आश्रम के संचालक वीरेंद्र देव दीक्षित को निरीक्षण के दौरान पुलिस का योगदान करने का आदेश दिया. कोर्ट ने यह आदेशएनजीओ ‘फाउंडेशन फॉर सोशल एम्पावरमेंट’ की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया है. याचिका में बोला गया है कि इस आश्रम में कई नाबालिग लड़कियों और स्त्रियों को जबरन बंधक रखा हुआ है. इनमें कई लड़कियां 14 वर्ष से आश्रम में कैद हैं. इस आश्रम के विरूद्ध 11 एफआईआर दर्ज हैं, जिनमें से सात बलात्कार की है. इसके बाद भी लोकल पुलिस कोई कानूनी कार्रवाई नहीं कर रही है.
कोर्ट के समक्ष तेलंगाना से आए एक दंपति ने बोला कि उनकी बेटी अमेरिका में प्रोफेसर थी. वह 2014 में आश्रम में गई  उसके बाद वापस नहीं आई.आश्रम वाले उससे मिलने नहीं देते  उससे मोबाइल पर भी संपर्क नहीं हो रहा है. एनजीओ ने एक पीड़ित लड़की को न्यायालय में पेश किया. उस लड़की ने बताया कि वह अपने माता-पिता के साथ 2003 में आश्रम में गई थी. उसके बाद वह एक कोर्स करने वहां गई  वहां उससे बलात्कार किया गया. वह किसी तरह वहां से बचकर निकली थी. याची एनजीओ ने बोला कि आश्रम में कैद कई लड़कियां खुदकुशी कर चुकी हैं, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.
Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   जाने क्यों नहीं मिलेंगे तेजस एक्सप्रेस को वाई-फाई का फायदे...
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *