Breaking News

भूकंप के खतरे को लेकर वैज्ञानिकों ने किया बड़ा खुलासा

Image result for भूकंप के खतरे को लेकर वैज्ञानिकों ने किया बड़ा खुलासाभूकंप के खतरे से लोग महफूज नहीं हैं. इसे लेकर वैज्ञानिकों ने कई बड़े खुलासे किए हैं, जिनकी रिपोर्ट पढ़कर ही आप हिल जाएंगे. हरियाणा में लगातार बढ़ती जा रही घनी आबादी  बहुमंजिली इमारतों की वजह से खतरा भी बढ़ रहा है.
हरियाणा के दस जिले भूकंप के हाई डैमेज रिस्क जोन में शामिल हो गए हैं.जबकि दस जिले मध्यम डैमेज  दो जिले लो डैमेज रिस्क जोन में लिए गए हैं.प्रदेश में भूकंप के खतरों को देखते हुए हरियाणा गवर्नमेंट ने अपनी तैयारी क्षमता को बढ़ाने का निर्णय लिया है. इसके लिए आर्मी, एयरफोर्स, सीआरपीएफ, आईटीबीपी, एसएसजी  एनडीआरएफ हरियाणा गवर्नमेंट की मदद करेगी.

यह भी पढ़ें:   शिवसेना MLA ने सूखा प्रभावित इलाके में किसानों से मिलने के लिए अपनी जगह भेजा 'नकली विधायक'

इस दौरान प्रदेश के हर जिले में ज्यादा से ज्यादा लोगों को कार्यशालाओं  के जरिये न केवल भूकंप आपदा के प्रति जागरूक किया जाएगा. बल्कि उक्त सैन्य और अर्ध सैन्य बलों की मदद से हरियाणा गवर्नमेंट अपनी तैयारियों को भी मजबूत करेगा. इसी के चलते हर जिले में इमरजेंसी ऑपरेशन सेंटर बनाए जाएंगे.

दरअसल हरियाणा कई राज्यों की सीमा से सटा है  इन राज्यों में कुछ एरियाऐसे हैं, जो भूकंप केंद्रित क्षेत्र है. हरियाणा का उत्तर-पूर्वी एरिया शिवालिक की पहाड़ियों से घिरा है, जबकि सूबे का बड़ा भाग घग्गर-यमुना का मैदानी एरियाहै.

यह भी पढ़ें:   लालू के करीबी RJD के पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह हत्या मामले में दोषी करार
Loading...
loading...

दक्षिणी-पश्चिमी में कुछ क्षेत्र सेमी-डेजर्ट है  दक्षिण हरियाणा का भाग अरावली हिल्स से घिरा है. विभिन्न राज्यों से सटे इस हरियाणा को भूकंप के हिमालयन फुट हिल्स, दि हिडन मुरादाबाद फाल्ट, दि सोहाना फाल्ट, दिल्ली के नजदीक जक्शन ऑफ अरावली एंड एलुवियम, मथुरा फाल्ट और दिल्ली-हरिद्वारा फाल्ट क्षेत्रों से लगातार खतरा बना रहता है.

हरियाणा के फरीदाबाद  गुरुग्राम में चूंकि पिछले एक दशक में काफीबहुमंजिला इमारतें बनी है, इसलिए इस इलाके में नुकसान का खतरा ज्यादा हो गया है.

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *