Thursday , April 26 2018
Loading...

मायावती ने एक बयान में कहा, मोदी गवर्नमेंट को मनमानी की आदत हो गए है

Image result for मायावतीलखनऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुस्लिम स्त्रियों से संबंधित तीन तलाक विधेयक में कई गम्भीर त्रुटियां  कमियां होने का दावा करते हुए शुक्रवार (05 जनवरी) को बोला कि अगर यह विधेयक वर्तमान स्वरुप में पारित होकर कानून बन जाता है तो इससे मुस्लिम महिलायें दोहरे अत्याचार का शिकार होंगी  मायावती ने एक बयान में कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गवर्नमेंट के अड़ियल और अलोकतान्त्रिक रवैये के कारण अगर यह विधेयक वर्तमान स्वरुप में पारित होकर कानून बन जाता है तो इससे मुस्लिम महिलायें दोहरे अत्याचार का शिकार होंगी तथा उनका हित होने के बजाय अहित ही होगा ‘

मोदी गवर्नमेंट को मनमानी की आदत हो गए है : मायावती
मायावती ने बोला कि तीन तलाक पर प्रतिबंध से संबंधित कानून बनाने को लेकर बीएसपी सहमत है, परन्तु वर्तमान विधेयक में सज़ा आदि का जो प्रावधान किया गया है वह तलाकशुदा मुस्लिम स्त्रियों के लिये  भी ज़्यादा बुरा होकर उनके लिये दिन-प्रतिदिन की  भी नयी समस्यायें पैदा करेगा जिससे उनका ज़िंदगी बहुत ज्यादा ज्यादा कठिन हो जायेगा तथा वे शोषण का शिकार होंगी

उन्होंने बोला कि मोदी गवर्नमेंट को इस प्रकार की कमियों पर खुले मन से विचार करना चाहिये जिसके विषय में बेहतर विचार-विमर्श हेतु इस विधेयक को राज्यसभा की प्रवर समिति को भेजने की माँग की जा रही है उन्होंने बोला कि मोदी गवर्नमेंट ने इस मामले में इतनी जल्दबाजी की है कि विपक्षी पार्टियों से थोड़ा सलाह-मशविरा करना भी महत्वपूर्ण नहीं समझा

उन्होंने बोला कि दरअसल मोदी गवर्नमेंट को मनमानी करने की आदत हो गयी है चाहे नोटबन्दी का अपरिपक्व निर्णय हो या बहुत ज्यादा जल्दबाजी में GST का अत्यन्त कष्टदायी फैसला या फिर अब तीन तलाक का जरूरी मामला हो, मोदी गवर्नमेंट द्वारा घोर मनमानी के साथ-साथ इनके अड़ियल रवैये अपनाने के कारण हर नयी व्यवस्था राष्ट्र की जनता के लिए जान का जंजाल ही साबित हुई है मायावती ने बोला कि ऐसा लगता है कि मोदी गवर्नमेंट अपनी मुस्लिम-विरोधी नीति और कार्यकलाप के कारण पूरे समाज को उद्वेलित करना चाहती है ताकि यह मामला भी हिन्दू-मुस्लिम बन जाये  फिर बीजेपी अपनी राजनीतिक और चुनावी स्वार्थ की रोटी सेंकती रहे

सरकार संसद के बजट सत्र में तीन तलाक विधेयक पारित कराने का कोशिश करेगी
गवर्नमेंट विवादास्पद तीन तलाक विधेयक को अब बजट सत्र के दौरान राज्यसभा में पारित कराने का कोशिश करेगी गवर्नमेंट का कहना है कि वह इस विधेयक के लिए प्रतिबद्ध है  संसदीय काम मंत्री अनंत कुमार ने शीतकालीन सत्र के समापन पर कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा कांग्रेस पार्टी ने लोकसभा में इस विधेयक का विरोध नहीं किया था लेकिन उच्च सदन में इसका विरोध किया

यह भी पढ़ें:   अपहरण मामले में यूपी के पूर्व मंत्री मूल चंद चौहान को भेजा जेल
Loading...
loading...

कुमार ने बोला कि कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी महिला सशक्तिकरण के बारे में बात करते है लेकिन जब इसको मूर्त रूप दिए जाने की बात आती है तो वह ‘‘भाग जाते है ’’ उन्होंने आरोप लगाया कि राज्यसभा में कांग्रेस पार्टी हर दिन विधेयक को लटकाने के लिए एक बहाने के साथ आई कुमार ने बोला कि हालांकि गवर्नमेंट ‘‘विधेयक को पारित कराने  हमारी मुस्लिम बहनों को सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है ’’ एक बार में तीन तलाक को फौजदारी क्राइम बनाने वाले मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक 2017 के तहत दोषी मुस्लिम पुरूषो को तीन साल की सजा का प्रावधान किया गया है

इस विधेयक को 28 दिसम्बर को लोकसभा में पारित किया जा चुका है किन्तु राज्यसभा में विपक्ष द्वारा इस विधेयक को प्रवर समिति में भेजने की मांग पर अड़ जाने के कारण इसे पारित नहीं किया जा सका जब 29 जनवरी को बजट सत्र की शुरूआत होगी तो कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा द्वारा पेश किये गये प्रस्ताव को विचार-विमर्श के लिए लाया जायेगा गवर्नमेंट के सूत्रों ने बताया कि वे बजट सत्र के पहले चरण में कोई रास्ता निकालेंगे  किसी आम सहमति पर पहुंचने के लिए विपक्ष के साथ बातचीत की जायेगी

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गवर्नमेंट बजट सत्र के लिए प्रोग्राम की एक सूची तैयार कर रही है इसमें इस मुद्दे को लेकर एक अध्यादेश लाये जाने की आसार नहीं है  अगले सत्र में विधेयक को पारित कराने का कोशिश किया जायेगा कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने लोकसभा में बोला था कि उच्चतम कोर्ट के आदेश के बावजूद एक साथ तीन तलाक की परिपाटी जारी है  इसलिए गवर्नमेंट के लिए यह महत्वपूर्ण था कि वह इसके लिए कानून लेकर आये

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
यह भी पढ़ें:   बड़ी खबर: समाजवादी पार्टी में जारी अंर्तकलह को खत्म करने में लगे हैं मुलायम
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *