Loading...

20 विधायकों को अयोग्य ठहराये जाने से जुड़े टकराव पर AAP ने कहा…

Related imageनई दिल्ली: निर्वाचन आयोग द्वारा 20 आप विधायकों को कथित तौर पर फायदा के पद पद पर काबिज होने के कारण अयोग्य घोषित करने की सिफारिश के बाद पार्टी ने शनिवार (20 जनवरी) को ‘परेशान किये जाने’ का आरोप लगाते हुए बोला कि वह ‘चुनावों से नहीं डरती है ’ आप की दिल्ली इकाई के प्रमुख गोपाल राय ने आरोप लगाया कि चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अपनी अनुशंसा भेजने से पहले पार्टी का पक्ष नहीं सुनाउन्होंने कहा, ‘‘यह अलोकतांत्रिक कदम है वे दिल्ली के लोगों, गवर्नमेंट दिल्ली के CM से बदला ले रहे हैं ’’

आप नेता ने बोला कि 11 राज्यों में संसदीय सचिवों की नियुक्ति की गयी, लेकिन केवल आप को निशाना बनाया जा रहा है उन्होंने कहा, ‘‘यह दोहरा मापदंड है क्या संविधान सब पर लागू नहीं होता है? हमें परेशान किया जा रहा है यह ब्रिटिश राज से भी बुरा है ’’ राय ने कहा, ‘‘हम न्याय की मांग को लेकर सभी लोकतांत्रिक मंचों पर जाएंगे ’’ लोगों तक आप की पहुंच को रेखांकित करते हुए राय ने कहा, ‘‘हम चुनावों से डरे नहीं हैं हमारा किस्मत लोग तय करते हैं ’’

यह भी पढ़ें:   बड़ी खबर: शराब की दुकानों के लिए उत्तर प्रदेशगवर्नमेंट ने जारी किया नया टाइम टेबल

उल्लेखनीय है कि बीते 19 जनवरी को चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति को आप के 20 विधायकों के कथित तौर पर फायदा का पद रखने को लेकर अयोग्य ठहराने की सिफारिश की थी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेजी गई अपनी राय में चुनाव आयोग ने बोला कि संसदीय सचिव होने के नाते इन विधायकों ने फायदा का पद रखा  वे दिल्ली विधानसभा के विधायक के पद से अयोग्य ठहराए जाने के योग्य हैं आप के 21 विधायकों के विरूद्ध चुनाव आयोग में याचिका प्रशांत पटेल नाम के एक आदमी ने दायर की थी इन विधायकों को दिल्ली की आप गवर्नमेंट ने संसदीय सचिव नियुक्त किया था जरनैल सिंह के विरूद्ध कार्यवाही खत्म कर दी गई थी क्योंकि उन्होंने पंजाब विधानसभा का चुनाव लड़ने के लिये राजौरी गार्डन के विधायक पद से त्याग पत्र दे दिया था

जिन 20 विधायकों को अयोग्य ठहराया जाना है उसमें आदर्श शास्त्री (द्वारका), अल्का लांबा (चांदनी चौक), अनिल बाजपेयी (गांधी नगर), अवतार सिंह (कालकाजी), कैलाश गहलोत (नजफगढ़), मदन लाल (कस्तूरबा नगर), मनोज कुमार (कोंडली), नरेश यादव (मेहरौली), नितिन त्यागी (लक्ष्मी नगर), प्रवीण कुमार (जंगपुरा) शामिल हैं गहलोत अब दिल्ली गवर्नमेंट में मंत्री भी हैं

यह भी पढ़ें:   जानिए क्या है बिहारी होली का पाकिस्तान कलेक्शन....
Loading...
loading...

इनके अतिरिक्त राजेश गुप्ता (वजीरपुर), राजेश ऋषि (जनकपुरी), संजीव झा (बुराड़ी), सरिता सिंह (रोहतास नगर), सोमदत्त (सदर बाजार), शरद कुमार (नरेला), शिवचरण गोयल (मोती नगर), सुखबीर सिंह (मुंडका), विजेंद्र गर्ग (राजेंद्रनगर)  जरनैल सिंह (तिलक नगर) भी शामिल हैं

इन विधायकों ने अपने आवेदन में दावा किया है कि चुनाव आयोग के समक्ष मामले के गुण-दोष पर कोई सुनवाई नहीं हुई है  शिकायतकर्ता प्रशांत पटेल ने भी कोई साक्ष्य नहीं दिया है  न ही चुनाव आयोग के समक्ष याचिकाकर्ताओं को कोई मौका दिया गया

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *