Loading...
Breaking News

रघुवंश प्रसाद ने कहा की बजट में किसानों के साथ धोखा

Image result for रघुवंश प्रसादपटना : राजद प्रयत्न समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ रघुवंश प्रसाद सिंह सदा अपने कड़वे  तीखे तेवर के लिए जाने जाते रहे है गवर्नमेंट पर सीधा सीधा हमला करने से वो कभी परहेज नहीं करते इस बार डॉ रघुवंश प्रसाद सिंह ने केंद्र की भाजपा गवर्नमेंट पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया है किसानों की आत्महत्या, दोगुनी आमदनी, फसल बीमा, डीजल अनुदान एवं फसल लागत मूल्य का मुद्दा उठाते हुए रघुवंश ने बोला कि नरेंद्र मोदी की चार सालों की गवर्नमेंटमें 12 हजार किसानों ने आत्महत्या की है मोदी के किसानों को लेकर किए गए वादे ‘जुमले’ बनकर रह गए हैं

रघुवंश ने किसानों की आमदनी को प्रतिमाह 18 हजार तय करने की मांग करते हुए बोला कि कर्ज माफी, रोजगार गारंटी, पेंशन, फसल बीमा, पशुपालन में आहार सब्सिडी, समय पर खाद, बीज एवं कृषि यंत्रों की सुविधा दिलाने की मांग को लेकर राजद निर्णायक आंदोलन खड़ा करेगा आम बजट की आलोचना करते हुए रघुवंश प्रसाद सिंह ने बोला कि वित्तमंत्री ने दावा किया कि रबी फसलों का मूल्य लागत से डेढ़ गुना तय किया जा चुका है साल 2018-19 के लिए एक क्विंटल गेहूं का भाव 1735 रुपये तय किया जा चुका है, जबकि फूड कारपोरेशन ऑफ इंडिया की साइट पर साल 2017-18 में गेहूं का लागत मूल्य 2408 रुपये एवं मूल्य आयोग की वेबसाइट पर आर्थिक लागत 2345 रुपये दर्ज है यह किसानों के साथ धोखा है

रघुवंश प्रसाद सिंह ने आगे बोला कि प्रदेश में आठ हजार से ज्यादा राजकीय नलकूप बंद पड़े हैंसिंचाई के लिए किसानों को व्यक्तिगत बोरिंग पर पहले 90 फीसद सब्सिडी मिलती थी जो अब 50 फीसद हो गई है किसान लाचार होकर औने-पौने दाम में धान बेच रहे हैं किसान कोल्ड स्टोरेज में ही आलू छोड़कर भाग रहे हैं दलहन-तेलहन की लागत भी नहीं निकल पा रही है ” बताते चलें कि राजद के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने इससे पहले नीतीश कुमार को आड़े हाथों लेते हुए बोला कि उन्‍होंने पांच लोगों को गाली-गलौज करने के लिए रखा है रघुवंश प्रसाद सिंह सदा पीएम मोदी के कड़े आलोचकों में शुमार रहे है

यह भी पढ़ें:   अखिलेश यादव : योगी मुझसे उम्र में बड़े और काम में बहुत पीछे
Loading...
loading...
Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *