Loading...
Breaking News

उमा भारती ने किया बड़ा ऐलान- अब मैं कोई चुनाव नहीं लड़ूंगी, मगर…

झांसी: केंद्रीय मंत्री  बीजेपी की अत्यंत मुखर नेता के तौर पहचानी जाने वाली झांसी की सांसद ने अब चुनाव न लड़ने का निर्णय कर लिया है उन्होंने यह बात रविवार को संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कही क्षेत्रीय सांसद उमा भारती ने संवाददाताओं से अपनी आयु  सेहत का हवाला देते हुए कहा, “अब मैं कोई चुनाव नहीं लड़ूंगी, मगर पार्टी के लिए कार्य करती रहूंगी “

उन्होंने बोला कि वह दो बार सांसद रही हैं  पार्टी के लिए बहुत ज्यादा कार्य किया है, उसी के चलते इतनी कम आयु में उनका बॉडी जवाब देने लगा है कमर  घुटनों में दर्द के चलते चलने-फिरने में कठिनाई होती है   पार्टी के लिए प्रचार करती रहेंगी राम मंदिर के सवाल पर उन्होंने बोला कि कोर्टअपना निर्णय सुना चुका है, लिहाजा आपसी सहमति से राम मंदिर का निर्माण हो जाना चाहिए

उमा भारती झांसी से सांसद है

यहां बताना लाजिमी होगा कि उमा भारती खजुराहो, भोपाल के बाद झांसी से सांसद है वे बड़ा मलेहरा चरखारी से विधायक रह चुकी हैं वे बुंदेलखंड की बड़ी प्रभावशाली नेता  पूरे राष्ट्र में हिंदूवादी नेता के तौर पर अपनी पहचान रखती हैं

उमा भारती ने खुद को पॉलिटिक्स का ‘मोगली’ बताया
केंद्रीय स्वच्छता एवं जल संरक्षण मंत्री उमा भारती ने यहां रविवार को बोला कि वह वर्तमान दौर की पॉलिटिक्स में ‘मोगली’ हैं यहां आयोजित तीन दिवसीय शैव महोत्सव के समापन मौका पर मंच संचालक ने जब का परिचय ‘प्रखर वक्ता’ के रूप में दिया, तो उमा ने मोगली का किस्सा सुना डाला

उन्होंने कहा, “मोगली नाम का बच्चा जंगल में पैदा हुआ था, जिसे भेड़िए उठा ले गए, बाद में वह मिल गयामैं सोचती हूं कि अगर मोगली पॉलिटिक्स में आ जाए तो वह क्या-क्या करेगा, वही कुछ मैं भी करती हूं ”

यह भी पढ़ें:   बड़ी खबर: कांग्रेस ने आप के 20 विधायकों से की इस्तीफे की मांग
Loading...
loading...

उमा भारती ने कहा, “किसी के बारे में ऐसी चर्चा हो जाती है कि वह ऐसा है  यह बात आगे चलती रहती है, इसी तरह मेरे साथ हुआ कहीं प्रवचन दिए तो लोगों ने प्रखर वक्ता कह दिया  आज भी वह बोला जा रहा हैवास्तव में मैं प्रखर वक्ता हूं नहीं ”

उन्होंने आगे कहा, “मैं तीन-चार दिन पहले अपने बारे में सोच रही थी, तभी मुझे मोगली की कहानी याद आ गई यह मनगढं़त कहानी नहीं, बल्कि मध्य प्रदेश की ही घटना है मोगली भेड़ियों के पास से वापस आ जाता है मैं सोचती हूं कि अगर मोगली पॉलिटिक्स में आ जाए तो वह क्या क्या करेगा, वही मैं भी करती हूंकभी कुछ कह दिया, बाद में लगता है कि अरे यह क्या कह दिया ”

यह भी पढ़ें:   योगी आदित्यनाथ ने कहा की विरोधी मैदान छोड़ चुके हैं व घर बैठकर ट्वीट कर रहे हैं

शैव महोत्सव में इंडियन डाक विभाग द्वारा बारह ज्योतिर्लिगों  शैव महोत्सव के कवर पेज पर आधारित पोस्टकार्ड  डाक टिकट भी जारी किए गए प्राचीन सनातन संस्कृति, ईश्वर शिव के स्वरूप, उनकी पूजन पद्धति  देवस्थानों के संरक्षण  प्रबंधन पर चार विशिष्ट सत्रों में वैचारिक संगोष्ठियों का भी आयोजन किया गया, जिसमें विभिन्न प्रांतों से आए विद्वानों ने अपने विचार जाहीर किए

Click Here
पढ़े और खबरें
Visit on Our Website
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *