Sunday , August 19 2018
Loading...
Breaking News

निक्की हेली ने बोला कि अगर सीरिया फिर से रासायनिक हथियारों का प्रयोग करता है तो…

नई दिल्ली/संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त देश में अमेरिका की राजदूत निक्की हेली ने रविवार (15 अप्रैल) को बोला कि अगर सीरिया फिर से रासायनिक हथियारों का प्रयोग करता है तो अमेरिका रिएक्शन के लिए पूरी तरह तैयार है अमेरिका, ब्रिटेन  फ्रांस ने सीरिया में रासायनिक हथियारों के ठिकानों को निशाना बनाकर हमले किए हैं यह कार्रवाई पिछले हफ्ते डौमा शहर में संदिग्ध रासायनिक हमले की रिएक्शन में की गई है हेली ने बोला कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लक्ष्मण रेखा खींच दी है  अमेरिका सीरिया पर दबाव बनाए रखेगा उन्होंने कहा, ‘‘कल (शनिवार, 14 अप्रैल) की सैन्य कार्रवाई से हमारा संदेश पूरी तरह स्पष्ट है अमेरिका असद शासन को रासायनिक हथियारों का प्रयोग नहीं करने देगा ’’ हेली ने आरोप लगाया कि सुरक्षा परिषद  रूस रासायनिक हथियारों का प्रयोग करने वालों को जवाबदेह ठहराने के अपने कर्तव्य का निर्वहन करने में विफल रहे हैंImage result for निक्की हेली

Loading...

पाकिस्तान ने सीरिया पर जताई चिंता
उधर, पाक ने सीरिया के दशा को लेकर ‘गंभीर चिंता’ जताई  सभी पक्षों से आग्रह किया कि वे संयुक्त देश चार्टर का सम्मान करें तथा सीरिया संकट को हल करें पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर सीरिया में रासायनिक हथियारों के प्रयोग की निंदा की उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने ब्रिटेन  फ्रांस के साथ संयुक्त कार्रवाई कर सीरिया पर मिसाइल हमला किया हैसीरिया के पूर्वी गोता के डौमा में हाल में कथित रूप से सीरिया द्वारा रसायनिक हथियारों के प्रयोगको लेकर अमेरिका ने पहले ही असद गवर्नमेंट को चेतावनी दी थी इस हमले में बच्चों सहित 75 लोग मारे गए थे

loading...

सीरिया पर अमेरिकी हमले की निंदा के रूसी प्रस्ताव को संरा ने किया खारिज
वहीं दूसरी ओर संयुक्त देश सुरक्षा परिषद ने रूस के उस प्रस्ताव को भारी बहुमत से खारिज कर दिया है जिसमें उसने अमेरिका, ब्रिटेन  फ्रांस द्वारा सीरिया पर किये गए ‘हमले’ की निंदा की बात कही थी इसके साथ ही सीरिया के रासायनिक हथियारों के ठिकानों को लक्षित कर किये जा रहे साझेदारीके हवाई हमलों को सुरक्षा परिषद का मत भी मिल गया है रूस की तरफ से बुलाई गई इस आपात मीटिंग में हालांकि इस बात को लेकर निराशा भी जाहीर की गई कि अंतर्राष्ट्रीय संगठन की यह सबसे शक्तिशाली इकाई पिछले सात वर्षों से चले आ रहे सीरियाई प्रयत्न से निपटने में नाकाम नजर आई है

तीन पश्चिमी राष्ट्रों के साझेदारी की सेनाओं द्वारा सीरिया में ‘हमले’  ‘आगे किसी तरह के बल के इस्तेमाल’ की निंदा  इसे फौरन रोके जाने की मांग वाले प्रस्ताव को 15 सदस्य राष्ट्रों वाली सुरक्षा परिषद के सिर्फ दो राष्ट्रों चाइना  बोलीविया का साथ मिला इसके उल्टा आठ राष्ट्रों ने रूसी प्रस्ताव के विरूद्ध मत दिया इनमें अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, नीदरलैंड्स, स्वीडन, कुवैत, पोलैंड आइवरी कोस्ट शामिल हैं मतदान के दौरान चार राष्ट्र – इथियोपिया, कजाखिस्तान, इक्वेटोरियल गिनी  पेरू – अनुपस्थित रहे

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *