Thursday , June 21 2018
Loading...

जल्‍द ही खत्‍म हो जाएगा 18 वर्ष पहले सफर पर निकला ये…

नई दिल्‍ली : ग्‍लोबल वार्मिंग के कारण संसार में मौजूद हिमखंड या आइसबर्ग तेजी से पिघल रहे हैं उत्‍तरी ध्रुव दक्षिणी ध्रुव पर ग्‍लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन का प्रभाव देखा जा सकता है अब समाचार आई है कि संसार का सबसे बड़ा हिमखंड अपना अस्तित्‍व खोने की कगार पर पहुंच गया है के मुताबिक साल 2000 में अंटार्कटिका से अलग हुआ B-15 नामक संसार का सबसे बड़ा हिमखंड या आइसबर्ग अब भूमध्‍य रेखा पर गर्म पानी वाले समुद्र पर पहुंच गया है उनके मुताबिक अब यह जल्‍द ही पूरी तरह पिघल कर खत्‍म हो जाएगा इसने अंटार्कटिका से अलग होने के बाद भूमध्‍य रेखा पर पहुंचने के लिए करीब 10 हजार किमी का सफर तय किया हैB-15 को इस सफर में 18 वर्ष का समय लगाImage result for जल्‍द ही खत्‍म हो जाएगा 18 वर्ष पहले सफर पर निकला

11 हजार वर्ग किमी बड़ा है हिमखंड
अंतरराष्‍ट्रीय अंतरिक्ष केंद्र (आईएसएस) से ली गईं ताजा तस्‍वीरों के मुताबिक 11 हजार वर्ग किमी बड़ा B-15 हिमखंड इस समय दक्षिण अटलांटिक महासागर में स्थित साउथ जॉर्जिया के उत्‍तरी इलाके तक पहुंच गया हैइस इलाके में समुद्र का पानी गर्म रहता है इसलिए नासा के वैज्ञानिकों को अनुमान है कि जल्‍द ही यह हिमखंड पूरी तरह खत्‍म हो जाएगा

2000 में हुआ था अलग
संसार का यह सबसे बड़ा हिमखंड बी-15 साल 2000 में अंटार्कटिका से अलग हुआ था इसका क्षेत्रफल जमैका जितना बड़ा है उस समय वैज्ञानिक रिकॉर्ड में इतना बड़ा हिमखंड कभी भी दर्ज नहीं किया गया था अंटार्कटिका से अलग होने के बाद इसका नाम B-15 रखा गया आरंभ से ही य‍ह हिमखंड समुद्र के ठंडे पानी में ही सफर तय करता रहा नासा के अनुसार इसके टूटने के बाद करीब 1 वर्ष बाद समुद्र की उत्‍तर दिशा की लहरों ने इसके सफर की दिशा को बदल दिया

यह भी पढ़ें:   अमरीका के सबसे बड़े शत्रु का नाम उजागर किया ट्रंप ने
Loading...

टुकड़े-टुकड़े हुआ हिमखंड
अंटार्कटिका से अलग होने के बाद समुद्री सफर पर निकला B-15 उत्‍तरी समुद्री लहरों के कारण कई छोटे-छोटे टुकड़ों में बंट गया इस समय इस हिमखंड के महज चार टुकड़े ही बचे हैं ये करीब 68.59 वर्ग किमी से बड़े हैंनासा के मुताबिक अगर इनमें से एक भी टुकड़ा पिघलकर अधिक छोटा हो गया तो अमेरिका के नेशनल आइस सेंटर द्वारा इनकी निगरानी नहीं की जा सकेगी

सबसे बड़ा टुकड़ा B-15Z
अंटार्कटिका से टूटने के बाद समुद्री सफर पर निकले बी-15 के मौजूदा चार टुकड़ों में से सबसे बड़ा टुकड़ा B-15Z करीब 171.49 वर्ग किमी बड़ा है लेकिन वैज्ञानिकों के मुताबिक इस टुकड़े के भी बीच के हिस्‍से में कई दरारें पड़ गई हैं साथ ही इसके भी कई हिस्‍से अलग हो चुके हैं इसका खुलासा मई में ली गईं तस्‍वीरों में हुआ था

यह भी पढ़ें:   कल धरती पर गिर सकता है चाइना का अनियंत्रित स्पेस स्टेशन
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *