Saturday , February 23 2019
Loading...
Breaking News

जांच रिपोर्ट में खुलासा: कई खामियों के चलते लगी आग

मुंबईः कमला मिल्स रेस्टोरेंट में लगी आग के मामले दो पूर्व जजों की जांच कमेटी ने न्यायालय को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है इस रिपोर्ट में कई बातों को बताया गया है जिसमें करप्शनसहित, महज फायदा के लिए कई बातों की अनदेखी करना  ऑफिसर सहित बिल्डर के जरिए अपने स्वार्थ चलते खामियों को अनदेखी करने की बात कही गई है  रिपोर्ट में रेस्टोरेंट में गैरकानूनी तरीके से हुक्का पार्लर चलाने की बात भी कही गई है इसके अतिरिक्त रेस्टोरेंट में बगैर किसी सुरक्षा इंतजामात के सिगड़ी  आग के खेल का प्रदर्शन होता था

रेस्टोरेंट मालिक ने नहीं लिए थे 3 NOC
रिपोर्ट के मुताबिक कमला मिल के मालिक के जरिए 3 एनओसी नहीं लिए गए थे, यह सारे एनओसी फायर ब्रिगेड से लेने थे एक्साइज विभाग के तीन अधिकारियों के नाम भी रिपोर्ट में जाहिर किया गया है जिन्होनें इस मामले में लापरवाही बरती है रेस्टोरेंट बनाने वाली इंटीरियर डिजाइनर के विरूद्ध भी इस रिपोर्ट में बताया गया है कि नियमों की अनदेखी करके रेस्टोरेंट के डिजाइन किए गए थे जिसमें आपातकाल में लोगों के निकलने की कोई व्यवस्था नहीं रखी गई थी

रिपोर्ट के मुताबिक रेस्टोरेंट में चारकोल का भी प्रयोग होता था  यहां की इलेक्ट्रिसिटी व्यवस्था दुरुस्त नहीं थी

आग में हुई थी 14 लोगों की मौत
कमला मिल्स परिसर में पिछले वर्ष 29 दिसंबर को लगी भीषण आग में 14 लोगों की मौत हो गई थीइस आग ने ‘मोजोस बिस्त्रो’  निकटवर्ती ‘वन अबव’ पब को अपनी चपेट में ले लिया था

गैर इरादतन मर्डर का मामला दर्ज है
बता दें कि इस मामले में नागपुर के व्यापारी तुली  उसके भागीदार युग पाठक के विरूद्ध गैर इरादतन मर्डर का मामला दर्ज किया गया था पाठक पुणे के पूर्व पुलिस आयुक्त के के पाठक का बेटा है उस वक्त पुलिस ऑफिसर ने बताया था कि यह कदम मुंबई अग्निशमन दल की रिपोर्ट के आधार पर उठाया गया था रिपोर्ट में बोला गया था कि आग संभवत: मोजोस बिस्त्रो में हुक्के से उड़ती चिंगारियों के कारण लगी  ‘वन अबव’ में फैल गई उन्होंने बताया था कि आरंभ में ‘वन अबव’ पब के तीन मालिकों, प्रबंधकों  कर्मियों के विरूद्ध मामला दर्ज किया गया था

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *