Monday , December 17 2018
Loading...
Breaking News

Nobel Prize 2018 : अमेरिका के इन लोगो को अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार

नई दिल्ली : अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार की घोषणा कर दी गई है 2018 के लिए अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार के लिए अमेरिकी अर्थशास्त्री विलियम नॉर्डहॉस  पॉल रोमर को चुना गया है आर्थिक विकास पर रिसर्च करने के लिए इन दोनों अर्थशास्त्रियों के संयुक्त रूप से यह सम्मान दिया जाएगा

नोबेल पुरस्कार देने वाली रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेस ने सोमवार को इन दोनों अर्थशास्त्रियों के नाम की घोषणा की नॉर्डहॉस येल विश्वविद्याल में प्रोफेसर हैं, जबकि रोमर न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय के स्टर्न स्कूल ऑफ बिजनेस जुड़े हुए हैं

Loading...

रॉयल स्वीडिश एकेडमी ने इनके नामों की घोषणा करते हुए बोला कि इन दोनों अर्थशास्त्रियों ने ‘हमारे समय कुछ ज्वलंत प्रश्नों के निवारण प्रस्तुत किए हैं जो बताते हैं कि हम किस तरह अपनी आर्थिक वृद्धि को लंबे समय तक निरंतर मजबूत बनाए रख सकते हैं

loading...

डेनिस मुकवेगे  नादिया मुराद को शांति का नोबेल
इस वर्ष का शांति नोबेल पुरस्कार डेनिस मुकवेगे  यजीदी कार्यकर्ता नादिया मुराद को दिया गया हैकांगो के डॉक्टर डेनिस मुकवेगे ने यह पुरस्कार संसार भर की उन स्त्रियों को समर्पित किया, जिन्होंने युद्ध की विभीषिका झेली है  जो हर दिन हिंसा का सामना करती हैं

डेनिस मुकवेगे युद्ध से तबाह हुए डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगों में दो दशक से स्त्रियों को शारीरिक  मानसिक परेशानियों से निकालने के कार्य में लगे हुए हैं मुकवेगे ने बोला कि उन्होंने दुष्कर्म  यौन हिंसा की पीड़ित लगभग 50,000 स्त्रियों का ऑपरेशन किया

यौन शोषण  बलात्कार की शिकार स्त्रियों के जख्मों को अच्छा करने  उन्हें मानसिक आघात से बाहर निकालने के सतत प्रयासों के लिए उन्हें ‘‘डॉक्टर मिरेकल’’ के नाम से पुकारा जाता है

रसायन का नोबेल 3 वैज्ञानिकों को
रसायन विज्ञान के नोबेल पुरस्कार के लिए अमेरिकी वैज्ञानिक फ्रांसेस अर्नोल्ड  जार्ज स्मिथ तथा ब्रिटिश अनुसंधानकर्ता ग्रेगरी विंटर को चुना गया है तीनों वैज्ञानिकों ने विभिन्न क्षेत्रों में प्रोटीन के प्रयोगके लिए क्रम विकास के उसी सिद्धांत का प्रयोग किया जिसके जरिए आनुवंशिक परिवर्तन  चयन किया जाता है

एकेडमी की नोबेल कैमेस्ट्री कमेटी के प्रमुख क्लेस गुस्तफसन ने संवाददाताओं से बोला कि 2018 के नोबेल विजेताओं ने डार्विन के सिद्धांत को परखनली में उतारा उन्होंने आन्विक स्तर पर क्रमविकास की प्रक्रियाओं की समझ का उपयोग किया  अपनी प्रयोगशाला में उसे मूर्त रूप दिया

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *