Wednesday , December 12 2018
Loading...

मी टू कैंपेन पर मोदी की मंत्री ने जताई खुशी, कहा…

मोदी गवर्नमेंट में महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गांधी का कहना है कि बाल शोषण पीड़ितों को मामला दर्ज करने के लिए 10-15 या उससे ज्यादा वर्षों का समय दिया जाए. वहीं उन्होंने मी टू कैंपेन का भी समर्थन किया है. 

मेनका गांधी ने कहा, ‘अब मी टू कैंपेन की आरंभ हो गई है  मैं बहुत खुश हूं कि यह प्रारम्भ हुई. मैं उम्मीद करती हूं कि यह उस तरह से नियंत्रण से बाहर नहीं जाएगा. हम उन लोगों को लक्षित नहीं करेंगे जिन्होंने हमें किसी तरह अपमानित किया है. मुझे लगता है कि महिलाएं जिम्मेदार हैं  यौन शोषण से जुड़ा गुस्सा कभी नहीं जाता है.

Loading...

गांधी ने आगे कहा, ‘आप हमेशा उस शख्स को याद रखते हैं जिसने उस कृत्य को आपके साथ किया था. हमने कानून मंत्रालय को लिखा है कि शिकायतें बिना किसी समय अवधि के होनी चाहिए. अब आप 10-15 वर्ष या उसके बाद शिकायत कर सकते हैं. कोई फर्क नहीं पड़ता कितने समय बाद. यदि आप शिकायत करने जा रहे हैं तो रास्ता अभी भी खुला हुआ है.

loading...

इससे पहले उन्होंने बोला था कि बाल शोषण की शिकायतों को दर्ज कराने की समय सीमा को बढ़ाया जाएगा ताकि 18 वर्ष का होने के बाद भी पीड़ित अपनी शिकायत दर्ज करा सकें. पहले तो मंत्रालय ने समय सीमा 7 वर्ष रखने का विचार किया था. लेकिन सभी उपायों पर कार्य करने के बाद ही समय सीमा का पता चल पाएगा. यह 7 वर्ष या फिर इससे कम  ज्यादा भी हो सकती है.

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *