Wednesday , December 19 2018
Loading...
Breaking News

ग्लोबल वार्मिंग से भारतीय युवाओं में फैल रहा है ये बीमारी

नई दिल्ली: एंकायलूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (ए.एस.) एक ऑटोएम्यून बीमारी है, जिसके मामले देश में बहुत ज्यादा देखने को मिल रहे हैं| बिशेषज्ञों का अनुमान है कि देश में 100 में से एक भारतीय युवा इस बीमारी की चपेट में है| यह बीमारी पुरूषों में ज्यादा पाई जा रही है और सबसे चिंता का विषय यह है कि इससे 20-30 साल की उम्र के लोग ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं| एंकायलूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस से पीड़ित विशाल कुमार की उम्र अभी 34 साल ही है और वह पिछले 8 साल से पीछ के निचले हिस्से और कूल्हों में गंभीर दर्द की वजह से बिस्तर पर ही जिंदगी जी रहे थे| करीब 12 साल पहले विशाल को रीढ़ की हड्डी और कूल्हों में एंकायलूजिंग स्पॉन्डिलाइटिस (ए.एस.) होने का पता चला था| धीरे-धीरे दर्द इतना बढ़ कि उनकी जिंदगी बिस्तर तक ही सीमित रह गई| बाद में उन्होंने टोटल हिप रिप्लेसमैंट (टी.एच.आर.) का सहारा लिया| अब वह सामान्य जीवन बिता रहे हैं|

ग्लोबल वार्मिंग से हो सकता है वायरल इंफैक्शन

Loading...

जलवायु परिवर्तन से हाथ, पैर व मुंह की बीमारी (एच.एफ.एम.डी.) का जोखिम बढ़ सकता है| यह चेतावनी एक नए अध्ययन में दी गई है| इसमें कहा गया है कि ग्लोबल वार्मिंग (भूमंडल ऊष्मीकरण) की वजह बचपन में वायरल संक्रमण हो सकता है| इंटरनैसनल जर्नल आफ डरमेटोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि ए.एफ.एम.डी. व तापमान के बीच सीधा संबंध है| वहीं, कैलीफोर्निया यूनिवर्सिटी के अध्ययनकर्ताओं का मानना है कि एच.एफ.एम.डी. का तेज हवा तथा धूप से कोई सीधा संबंध नहीं है| अध्यनयन में शामिल प्रो.सारा कोटेस ने कहा कि जलवायु परिवर्तन और विभिन्न संक्रामक बीमारियों की बढ़ती घटनाओं का एक-दूसरे से सीधा संबंध है|

loading...
Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *