Wednesday , December 19 2018
Loading...
Breaking News

बदलते मौसम में सर्दी जुकाम से बचाव के लिए करें ये उपाय

नई दिल्ली: बदलते मौसम में सर्दी जुकाम से बचाव के लिए रखें 4 बातों का खास ख्यालबदलते मौसम में सर्दी जुकाम से बचाव के लिए रखें 4 बातों का खास ख्यालमौसम के बदलते ही जुकाम-बुखार होना एक आम समस्या है| मानसून के बाद एकदम तापमान में बदलाव आने के कारण वायरल बुखार और संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा होता है| वैसे तो वायरल का सर्दी बुखार एक हफ्ते में ठीक हो जाता है लेकिन आपकी कुछ गलतियों के कारण यह कई बार जल्दी ठीक नही होता और लंबे समय तक बना रहता है| वायरल बुखार या जुकाम होने पर कुछ बातों को ध्यान में रखकर आप जल्द ही तंदरुस्त हो सकती हैं| आइए जानते हैं कि वायरल बुखार या जुकाम होने पर किन 4 चीजों से बचाव जरूरी है|

1| पानी कम पीना

Loading...

वायरल की हालत में आपको खूब पानी पीना चाहिये| इसके अलावा जूस भी ले सकती हैं| बुखार में फलों का ज्यादा सेवन करना चाहिए क्योंकि इनमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स पाये जाते हैं| ज्यादा फल खाने से विषैले पदार्थ बाहर आएंगे और शरीर को बीमारियों से लड़ने की ताकत मिलेगी| डायरिया या उल्घ्टी की समस्या होने पर इलेक्ट्रॉल लेने से आपको राहत मिलेगी| इसके अलावा, नींबू, लैमनग्रास, पुदीना, साग, शहद आदि भी आपके लिए फायदेमंद हो सकते हैं|

loading...

2| एयर कंडीशनर में सोना

आमतौर पर मौसम बदलने के बावजूद भी कई लोग ए. सी. का प्रयोग करते हैं| मौसम बदलने के दौरान सवेरे शाम थोड़ी-थोड़ी ठंड हो जाती है ऐसे में ए.सी. में सोने से शरीर का तापमान काफी कम हो जाता है जिससे नाक और गला खराब होने के चांस बढ़ जाते हैं| आपको ठंड से बुखार भी हो सकता है|

3|साफ-सफाई का ध्यान न रखना

वायरल बुखार होने का सबसे बड़ा कारण सफाई पर ध्यान न देना है| मौसम बदलने के कारण बैक्टिरिया ज्यादा एक्टिव हो जाते है इसलिए आप अपने आस-पास की सफाई का खास ख्याल रखें| वायरल बुखार होने पर इन बातों पर ध्यान देने की खास जरुरत होती है|

1| साबुन से नहाना|

2|कपड़े धूप में सुखाना

3| बाथरूम और ट्वॉयलेट की अच्छी तरह सफाई करना

4| खांसते और छींकते समय मुंह पर रूमाल रखना

5| सब्जियों को अच्छे से पकाना

5| खाने से पहले साबुन से हाथ धोना

4| खांसने-छींकने के बाद कपड़ों से पोंछ लेना

वायरल बुखार होने पर छींकते समय मुंह पर रूमाल रखना बहुत जरुरी होता है नही तो आपके साथ-साथ घर के बाकी लोगों को भी वायरल इंफेक्शन का खतरा हो जाता है|इस मौसम में हवा में मौजूद वायरस एक-दूसरे में सांस के जरिये, छींकने से या खांसने से फैलता है| इसे रेस्पिरिटरी इन्फेक्शन का वायरस कहते हैं|

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *