Tuesday , October 23 2018
Loading...

मी टू पर बोले राहुल गांधी, कहा…

देशभर में मी टू अभियान जोर पकड़ रहा है. इस अभियान के मद्देनजर कई बड़ी शख्सियतों पर यौन शोषण के आरोप लग रहे हैं. प्रतिदिन किसी बड़े नाम के विरूद्ध महिलाएं सामने आ रही हैं  अपनी दास्तां बयान कर रही है. बीजेपी में गृह राज्यमंत्री एमजे अकबर पर भी कई स्त्रियों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. बुधवार को राहुल गांधी ने प्रेस कांफ्रेस करके गवर्नमेंट को घेरा था. 

इसी बीच एक पत्रकार ने उनसे मी टू अभियान के तहत एमजे अकबर पर लगे आरोपों पर रिएक्शनमांगी थी. जिसपर राहुल ने उस समय कोई भी जवाब नहीं दिया था. लेकिन अब उन्होंने एक ट्वीट करके मी टू के तहत सामने आने वाली स्त्रियों की सराहना की है. उन्होंने बोला है कि बदलाव लाने के लिए सच्चाई को जोरदार  स्पष्ट तौर पर बताया जाना चाहिए.

Loading...

राहुल गांधी ने लिखा, ‘समय आ गया है कि सभी को यह सीखना चाहिए कि किस तरह से स्त्रियों का सम्मान करना चाहिए  उनकी गरिमा को बनाए रखना चाहिए. मुझे खुशी है कि वह समाज जहां लोग चुप रहते थे, सामने नहीं आते थे, वैसे समाज का अस्तित्व समाप्त हो रहा है. परिवर्तन लाने के लिए हकीकत को जोरदार  बुलंद तरीके से कहा जाना चाहिए. #MeToo’

loading...

माना जा रहा है कि यौन शोषण के आरोप लगने के बाद गवर्नमेंट एमजे अकबर से त्याग पत्र ले सकती है. वहीं महिला मंत्रियों सहित रीता बहुगुणा जोशी तक ने उनपर लगे आरोपों की जांच करने को बोलाहै. स्मृति ईरानी ने गुरुवार को साफतौर पर बोला कि वह आवाज उठाने वाली स्त्रियों को न्याय मिलने के पक्ष में हैं. उन्होंने कहा, अकबर को खुद आरोपों पर अपना पक्ष रखना चाहिए. संबंधित आदमी होने के नाते अकबर इस मामले पर बोलने के लिए ज्यादा अच्छी स्थिति में हैं.

जब निर्मला सीतारमण से इस मामले पर सवाल पूछा गया. तो उन्होंने बोला कि इस वह इस मामले पर बोलने के लिए सही आदमी नहीं हैं, लेकिन उन्होंने यौन उत्पीड़न के विरूद्ध आवाज उठाने वाली स्त्रियोंका समर्थन किया. निर्मला ने कहा, जो भी महिलाएं इस स्थिति से गुजरी हैं, उनका बहुत बुरा अनुभव रहा होगा. इस वजह से वे अपने साहस से आगे आई हैं, जिसका मैं समर्थन करती हूं.

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *