Tuesday , November 20 2018
Loading...
Breaking News

INDvsWI: एसजी गेंद से विराट कोहली को यह शिकायत

हैदराबाद: हिंदुस्तान  वेस्टइंडीज के बीच हैदराबाद में चल रहे टेस्ट सीरीज के दूसरे टेस्ट मैच में पहले दिन टीम इंडिया के गेंदबाजों का प्रदर्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं रहा दिन भर में भारतीय टीम निर्बल मानी जा रही वेस्टइंडीज टीम के केवल 7 ही विकेट गिरा सकी जबकि अतिथि टीम ने पहले दिन 295 रन बना लिए दिन का खेल समाप्त होने के बाद टीम के कप्तान विराट कोहली ने खिलाड़ियों सहित टीम मैच में प्रयोग की गई गेंद की क्वालिटी पर निराशा जताई  

विराट कोहली ने हिंदुस्तान में टेस्ट मैच में प्रयोग की जाने वाली एसजी गेंद की क्वालीटी पर निराशा जताते हुए बोला क्रिकेट में हर स्थान ड्यूक गेंद के प्रयोग का समर्थन किया उन्होंने बोला है कि एसजी गेंद जल्दी घिस जाती है जिससे खिलाड़ी के प्रदर्शन पर असर पड़ता है एसजी गेंद हिंदुस्तान में टेस्ट मैच में प्रयोग की जाती है वेस्टइंडीज के विरूद्ध राजकोट में खेले गए पहले टेस्ट मैच के बाद इंडियनऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने भी इस पर निराशा जताई थी

Loading...

अचानक क्वालिटि गिरने पर हैरानी
कोहली ने कहा, “गेंद का पांच ओवर बाद घिस जाना हमने कभी नहीं देखा पहले गेंद की जो क्वालीटी थी वो बहुत ज्यादा अच्छी थी मुझे समझ नहीं आ रहा है कि इसमें गिरावट कैसे आई ड्यूक गेंद की क्वालीटी अभी भी अच्छी है कुकाबुरा की क्वालीटी भी अच्छी है कुकाबुरा गेंद कैसी भी हो उसकी क्वालीटी में गिरावट नहीं आई ”

loading...

भारतीय कप्तान ने कहा, “मुझे लगता है कि ड्यूक टेस्ट मैचों के लिए सबसे सही गेंद है अगर यह स्थिति रही थो मैं सभी स्थान टेस्ट क्रिकेट में ड्यूक गेंद के प्रयोग का समर्थन करूंगा ”

उमेश ने जताया एतराज
मैच के पहले दिन तीन विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज उमेश यादव भी ‘एसजी टेस्ट गेंद’ का विरोध करने वाले इंडियन खिलाड़ियों की सूची में शामिल हो गए उमेश ने शुक्रवार को मैच के बाद बोला कि इसके पुराने होने पर निचले क्रम को रोकना कठिन हो रहा है उल्लेखनीय है कि इसी गेंद से मैच के दूसरे दिन केवल 6 ओवर में ही उमेश ने वेस्टइंडीज के बाकी तीन बल्लेबाजों को आउट कर दिया था

उमेश ने दूसरे टेस्ट के पहले दिन का खेल खत्म होने के बाद प्रेस काफ्रेंस में कहा, ‘‘यदि आप कह रहे हैं कि निचले क्रम ने रन बनाये हैं तो आपको समझना होगा कि इस तरह की सपाट पिचों पर एसजी टेस्ट गेंदों से खेलना कठिन है इससे गति या उछाल नहीं मिलती ’’

गेंद जल्दी नरम हो जाती है
उन्होंने कहा, ‘‘आप एसजी गेंद से एक ही स्थान पर गेंद डाल सकते हैं लेकिन पिच से मदद नहीं मिलने पर कुछ नहीं हो सकता मध्य  निचले क्रम के आने पर गेंद नरम हो जाती है  बल्लेबाजी सरल हो जाती है ’’ उन्होंने कहा, ‘‘पुछल्ले बल्लेबाजों को पता है कि गेंद ना तो स्विंग लेगी  ना ही रिवर्सआपको बस कोशिश करते रहना होता है बड़े मैदान पर ऐसा नहीं हो सकता ’’

 शार्दुल को भी मदद नहीं मिलती
शार्दुल ठाकुर की ग्रोइन चोट के कारण वह लंबे स्पैल के लिये तैयार थे उन्होंने कहा, ‘‘शार्दुल खेलता तो मैं स्पिनरों की  मदद कर सकता मुझे तीन विकेट मिले  अगर वह भी दो विकेट ले लेता तो हमारी टीम को मदद मिलती लेकिन आप कुछ नहीं कर सकते यह खेल का भाग है ’’

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *