Tuesday , November 20 2018
Loading...
Breaking News

एमरजेंसी प्लान के साथ तैयार सरकार सर्दियों में प्रदूषण के खतरे से बचने के लिए

नई दिल्लीः सर्दियां जैसे जैसे नजदीक आ रही है दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण भी दस्तक की तैयारी में है सीपीसीबी के पिछले दो सप्ताह के एयर क्वालिटी के आंकड़ें बहुत ही भयावह है  अगर ऐसा ही रहा तो ये सर्दियां भी प्रदूषण की चपेट में होगी इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए पर्यावरण मंत्रालय ने अपनी कमर कसी  एक एमरजेंसी प्लान के साथ तैयार है इस वर्ष पल्यूशण की स्थिति ज्यादा बेकार होने के तीन दिन पहले ही लोगों को सचेत कर दिया जाएगा ऐसा एक वॉर्निंग सिस्टम तैयार किया गया है आज आईएमडी ने इसकी लॉन्चिंग की  

दरअसल, ये अमेरिका  फिनलैंड के वार्निंग सिस्टम के मॉडल को ध्यान में रखकर बनाया गया है ये सिस्टम कुछ इस तरह से कार्य करेगा कि जैसे ही आईएमडी को मौसम में पल्यूशन की बेकार स्थिति या डस्ट स्ट्रोम की जानकारी मिलेगी वो पहले ही सीपीसीबी को इशारा देगा  उसके बाद सीपीसीबी गार की मदद से एक्शन प्लान को लागू करेगी आम लोगों को सीपीसीबी की ओर से जानकारी दी जाएगी पर्यावरण मंत्री चिकित्सक हर्षवर्धन ने माना कि पिछले तीन वर्ष से दिल्ली में प्रदूषण का स्तर चिंताजनक स्थिति में है, लेकिन इस वर्ष उम्मीद है कि ये कम रहेगा क्योंकि पहले से ही कई तरह के महत्वपूर्ण कदम उठाए जा रहे हैं गवर्नमेंट ने एक इमरजेंसी एक्शन  प्लान भी बनाया है आवश्यकतापड़ी तो दिल्ली में व्हीकल इमिशन को रोकने के लिए  भी महत्वपूर्ण कदम उठाए जाएंगे

Loading...

साल 2018 में कम हुआ pm 2.5  10 का स्तर, कम जली पराली 
पर्यावरण मंत्रालय के मुताबिक 2017 के मुकाबले 2018 में pm 2.5  pm 10 का स्तर कम हुआ हैसितम्बर 2017 में Pm 2.5- 61, Pm 10- 215, सितम्बर 2018 में Pm 2.5- 44, Pm 10- 116. वहीं 11 अक्टूबर 2017 में पीएम 2.5- 110  पीएम 10- 262 दर्ज किया गया 11 अक्टूबर 2018 की बात करें तो पीएम 2.5- 86  पीएम 10- 223 दर्ज किया गया बता दें कि पिछले 2 वर्ष के मुकाले इस बार पराली भी कम जलाई गई है पिछले वर्ष के मुकाबले पंजाब में 75% की गिरावट आई है हरियाणा में 40% (1सितम्बर – 14अक्टूबर तक) की गिरावट आई है पंजाब में 2016- 4126, 2017- 2635  2018- 699. हरियाणा की बात करें तो 2016- 1931, 2017- 1527, 2018- 923 पराली जलाने के मामले सामने आए

loading...

प्रदूषण की रोकथाम के लिए उठाए गए ये कदम 
15 अक्टूबर 2018 से दिल्ली/ एनसीआर में cbcb की 41 टीमें स्थान जगह जाकर मॉनिटरिंग supervision करेंगी   ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेसवे मई 2018 से पूरी तरह से चल रहा है  जिससे सभी ट्रक डाइवर्ट कर दिये गए हैं आवश्यकता पड़ी तो ट्रकों की आवाजाही बंद कर दी जाएगी   बदरपुर थर्मल पॉवर प्लांट आज से बंद कर दिया गया है   दिल्ली में 1131 में से 950 इंडस्ट्रियल यूनिट्स ने PnG में स्विच कर लिया है  बाकी सभी को आदेश दे दिये गए हैं दिल्ली/ एनसीआर में 722 ब्रिक किलन्स ज़िग ज़ैग टेक्नोलॉजी पर स्विच कर गए हैं 52 मेकेनाइज्ड रोड स्वीइंग मशीन्स अभी दिल्ली की सड़कों पर कार्य कर रही हैं नवंबर 2018 तक इनकी संख्या 64 कर दी जाएगी

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *