Wednesday , November 14 2018
Loading...

आरक्षण से लेकर घोटालों तक, यह मुद्दे बन सकते है भाजपा की…

भोपाल: राष्ट्र के अधिकांश राज्यों में विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहे है  कुछ दिनों पहले ही चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में चुनावों की तारीखे भी घोषित कर दी है इनमे से एक राज्य मध्यप्रदेश भी है जहाँ मतदान 28 नवंबर को होंगे इन चुनावों को लेकर तमाम राजनैतिक पार्टियां अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी हुई है राज्य में तक़रीबन पिछले 15 वर्षों से सत्तारूढ़ बीजेपी (भाजपा)  कई राजनैतिक विश्लेषक भी इस बात को लेकर दावे कर रहे है कि इस बार भी राज्य में भाजपा की ही गवर्नमेंट बनेगी लेकिन इस बार भाजपा के लिए जीत इतनी सरल नहीं होगी इस बार के चुनाव में ऐसे कई मुद्दे है जो भाजपा के इस सपने पर पानी फेर सकते है आएये ऐसी ही कुछ मुद्दों पर नजर डालते है

व्यापम घोटाला :-

Loading...

साल 2013 में सामने आया व्यापम घोटाला मध्यप्रदेश ही नहीं बल्कि पुरे राष्ट्र का अब तक का सबसे बड़ा एजुकेशन घोटाला है यह घोटाला मध्यप्रदेश में विभिन्न सरकारी नौकरियों  कई शैक्षणिक संस्थानों में प्रवेश से जुड़ी कई परीक्षाओं को आयोजित करवाने वाले व्यापम बोर्ड से जुड़ा है इस घोटाले में व्यापम बोर्ड द्वारा कराई जाने वाली तक़रीबन एक दर्जन परीक्षाओं में धोखाधड़ी  करप्शनका मामला सामने आया था इस घोटाले में कई विद्यार्थियों से बड़ी रकम लेकर उन्हें मेडिकल कॉलेजों की सीटें बेचीं गई थी इस घोटाले के बाद राज्य गवर्नमेंट  CM शिवराज पर भी कई तरह के आरोप लगे थे  यह घोटाला आगामी चुनावों में उनके वोट बेहद कार्य कर सकता है

loading...

डम्पर घोटाला :-

व्यापम घोटाले के अतिरिक्त शिवराज सिंह चौहान पर एक  बड़े घोटाले के आरोप लगे थे  यह घोटाला था वर्ष 2007 में सामने आया था इस घोटाले में CM शिवराज सिंह  उनकी पत्नी साधना सिंह पर आरोप लगे थे कि उन्होंने कथित तौर पर तक़रीबन 2 करोड़ रुपये की लागत से चार डम्पर खरीदे थे जिसे गलत तरीके से सीमेंट कारखाने में पट्टे पर दे दिया था इसके साथ ही उनपर इस मामले में करचुराने के भी आरोप लगे थे हालाँकि बाद में हाई न्यायालय ने इस मामले में उन्हें क्लीन चीट दे दी थी

किसानों की नाराजगी-

भाजपा गवर्नमेंट भले ही अपने आप को किसानो के प्रति समर्पित बताती है लेकिन जमीनी स्तर पर कई किसानों में उन्हें लेकर भरी आक्रोश देखा जा रहा है इसके साथ ही राज्य में पिछले कुछ वर्षों में कई किसानों ने कर्ज या गरीबी जैसे कई अन्य मुद्दों से तंग आ कर आत्महत्या कर ली थी इन मामलों के बाद से ही कई किसानों में गवर्नमेंट के खिलाग आक्रोश देखा जा रहा है

आरक्षण की आग

बीजेपी गवर्नमेंट प्रारम्भ से ही SC/ST आरक्षण का समर्थन करती आई है  गवर्नमेंट ने कुछ समय पहले ही SC/ST एक्ट में संसोधन कर इस मामले में सुप्रीम न्यायालय के तत्काल गिरफ्तारी वाले नियम पर रोक लगाने के निर्णय को पलट दिया था इसके बाद से ही राज्य समेत राष्ट्र भर के स्वर्ण समाज में भाजपा गवर्नमेंट को लेकर भारी आक्रोश है  यह आक्रोश आगामी चुनावों में भाजपा को भरी पढ़ सकता है

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *