Wednesday , November 14 2018
Loading...

श्रीलंका में सत्ता का संघर्ष: हल नहीं निकाला तो सड़कों पर खून बहेगा : स्पीकर

नई दिल्ली/कोलंबो: ने सोमवार को राष्ट्र के नये पीएम का पद वजन संभाल लिया, जबकि इस पद से अपदस्थ कर दिए गये रानिल विक्रमसिंघे ने बोला है कि उन्हें संसद में अभी तक बहुमत हासिल है इस बीच, स्पीकर ने बोला कि यदि इस राजनीतिक संकट का तुरंत हल नहीं निकाला गया तो सड़कों पर रक्तपात हो सकता है राष्ट्रपति सिरीसेना ने शुक्रवार को पूरे राष्ट्र को हैरत में डालते हुए विक्रमसिंघे को पीएम पद से बर्खास्त कर दिया था  राजपक्षे को नया पीएम नियुक्त करने की घोषणा की थी

राजपक्षे ने पीएम सचिवालय में अपना पद वजन संभाल लिया है   अपदस्थ कर दिए गये पीएमविक्रमसिंघे इसका उपयोग नहीं करते थे राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना के नये मंत्रिमंडल को भी शपथ दिलायी गयी, जिसमें राजपक्षे का नाम वित्त एवं आर्थिक मामलों के नये मंत्री के रूप में है नये मंत्रिमंडल में महज 12 मंत्री हैं जिनमें एक राज्य मंत्री एवं एक उप मंत्री है

Loading...

नये मंत्रियों में तीन वे भी हैं जो विक्रमसिंघे की यूनाइटेड नेशनल पार्टी (यूएनपी) से पाला बदलकर आए हैं मंत्रिमंडल का एक नया चेहरा डगलस देवानंद हैं   जाफना के उत्तरी जिले से आने वाले देवानंद को पुनस्र्थापन एवं पुनर्वास, उत्तरी विकास एवं हिन्दू धार्मिक मामलों का मंत्री बनाया गया है

loading...

अरूमुगम थोंडामन को पर्वतीय एरिया विकास का मंत्री बनाया गया है वह केन्द्रीय चाय बागान में इंडियन मूल के तमिलों का प्रतिनिधित्व करते हैं सिरीसेना ने संसद को 16 नवंबर तक स्थगित कर दिया क्योंकि विक्रमसिंघे ने अपना बहुमत साबित करने के लिए संसद का आपात सत्र बुलाने का अनुरोध किया था

श्रीलंकाई संसद के अध्यक्ष (स्पीकर) कारू जयसूर्या ने आगाह किया है कि रक्तपात हो सकता है क्योंकि कुछ लोग इस विषय को सड़कों पर सुलझाना चाहते हैं जयसूर्या ने कैंडी में संवाददाताओं से बोला कि इस मुद्दे का निवारण संसद के भीतर निकाला जाना चाहिए ‘‘कुछ लोग इसका निवारण बाहर सड़कों पर करना चाहते हैं

यदि इसकी अनुमति दी जाती है तो रक्तपात हो सकता है दो लोग पहले ही मारे जा चुके हैं राष्ट्र को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नुकसान पहुंचेगा ’’ श्रीलंका में रविवार को संकट ने उस समय  गंभीर मोड़ ले लिया, जब सरकारी स्वामित्व वाली कंपनी सीलोन पेट्रोलियम के मुख्यालय में अपदस्थ कैबिनेट के पेट्रोलियम मंत्री अर्जुन राणातुंगे ने अपने ऑफिस में फिर से प्रवेश का कोशिश किया

हालांकि तभी हिंसा भड़क उठी इस घटना के कारण पूर्व क्रिकेटर रणतुंगा को सोमवार को अरैस्टकिया गया विक्रमसिंघे अभी तक पीएम के टेंपल ट्रीज ऑफिस सह निवास में बने हुए हैं   उन्होंने सोमवार को बोला कि उन्हें संसद में बहुमत हासिल है तथा संसद की मीटिंग होने पर वह इसे साबित कर सकते हैं उन्होंने कहा, ‘‘कोई भी संसद में हस्तक्षेप नहीं कर सकता ’’

उन्होंने बोला कि अब निवारण संसद के पास है तथा प्रयत्न का निवारण निकालने के लिए इसे आहूत किया जाना चाहिए सिरीसेना ने रविवार को देश के नाम अपने संबोधन में काह कि विक्रमसिंघे को उनके ‘अहंकारी’ रवैये के कारण हटाया गया तथा उन्होंने सुशासन की परिकल्पना को पूरी तरह ध्वस्त कर दिया था

सिरीसेना ने यूएनपी नेता पर उनकी मर्डर की साजिश को बहुत हल्के में लिये जाने का आरोप लगायाराष्ट्रपति के इस आरोप के जवाब में विक्रमसिंघे ने बोला कि सिरीसेना अपने गलत कामों को छिपाने के लिए मर्डर के कोशिश की चर्चा कर रहे हैं सिरीसेना पर संसद बर्खास्त करने के उनके फैसला के कारण अंतर्राष्ट्रीय दबाव पड़ रहा है

संरा महासचिव एंटोनियो गुतारेस तथा अमेरिकी विदेश विभाग ने श्रीलंका की गवर्नमेंट से लोकतांत्रिक मूल्यों तथा संवैधानिक प्रावधानों एवं प्रक्रियाओं का सम्मान करने को बोला हैउल्लेखनीय है कि 2015 में सिरीसेना ने राष्ट्रपति चुनाव में राजपक्षे को हराया था   उन्हें विक्रमसिंघे की यूएनपी का समर्थन प्राप्त है कोलंबो में सुरक्षा प्रबंधों को चाक चौबंद किया गया है तथा राष्ट्रपति सिरीसेना के सरकारी आवास वाले एरिया को आम यातायात के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *