Wednesday , December 19 2018
Loading...
Breaking News

अपनाएं ये 10 अच्छा उपाय! प्रदूषण से हैं परेशान?

नई दिल्ली : बढ़ता वायु प्रदूषण महानगरों में एक बड़ी समस्या बन कर उभरा है महानगरों की इस प्रदूषित हवा में नाइट्रोजन ऑक्साइड, ओजोन के कण जैसे खतरनाक पदार्थ घुले रहते हैं, जिसके कारण महानगरों में रहने वाले लोगों को कई तरह की बीमारियां होने का खतरा भी रहता है डॉक्टरों का मानना है कि महानगरों में रहने वाले लोगों के फेफड़ों (lungs) में इससे सबसे ज्यादा संक्रमण होने की आसार रहती है प्रदूषण के कारण फेफड़ोंं (lungs) के अंदर वायु प्रवाह भी कम होने लगता है, जिस कारण फेफड़ों के अंदर मकस (mucous) बहुत ज्यादा बढ़ जाता है यह फेफड़ों को प्रभावी तरीके से बैक्टीरिया  वायरस को फ़िल्टर करने से भी रोकता है वायु प्रदूषण फेफड़ों के कैंसर का कारण भी बन सकता है

आयुर्वेद के अनुसार इस कारण त्रिदोष में असंतुलन होने की आसार रहती है इस कारण हमें कई अन्य बीमारियों भी हो सकती है गुड़गांव के तनमत्रा आयुर्वेद की चिकित्सक ज्योत्सना मक्कड़ का मानना है कि प्रदूषण के असर को पूरी तरह रोका नहीं जा सकता है, लेकिन आप अपने ज़िंदगी में इन 10 आयुर्वेदिक उपायों को अपना कर इससे बचाव कर सकते हैं

Loading...

1. नास्य कर्म (Nasal Drop Treatment): नास्य कर्म प्रक्रिया आपके नाक के अंदर की गंदगी को साफ करने में मदद करती है, जिससे आप इस प्रदूषित हवा में शामिल प्रदूषकों (pollutants) के कारण होने वाली एलर्जी (Allergy) को रोक सकते हैं इस इलाज का फायदा आप पंचकर्मा प्रक्रिया के माध्यम से भी ले सकते हैं, लेकिन इसे सही विशेषज्ञ की सलाह  निगरानी में हीं करना चाहिए नास्य कर्म प्रक्रिया में हर दिन प्रातः काल में नाक में बादाम के ऑयल या गौ माता घी की दो बूंद डालनी होती है यह न केवल नाक के अंदर गए प्रदूषक कणों (pollutants) को साफ करता है इसके साथ ही इससे आपकी श्वास प्रणाली (Respiratory System) में  के प्रदूषक कणों (pollutants) को नाक के पार जाने से रोकता है

loading...

2. तिल का ऑयल (Sesame Oil) को नाक के अंदर खींचना: हालांकि नाक हमारे बॉडी का एक ऐसा अंग है जो हवा में मौजूद प्रदूषको (Pollutants) को रोकने के लिए सबसे अधिक प्रभावी फ़िल्टर हैSesame Oil को नाक के अंदर खींचने से हम कुछ देर तक इस स्थिति से बच सकते हैं आपको लगभग 15 मिनट तक मुंह में एक चम्मच तिल का ऑयल (Sesame Oil) डालकर रखना होगा फिर उसे उगल देना होगा इस तरीका से आप हानिकारक बैक्टीरिया को साफ कर सकते हैं साथ ही यह हमारे मुंह के बाहर कई तरह की एलर्जी से लड़ने के लिए मौजूद श्लेष्म स्तर (mucous lining) को भी मजबूत करता है

3. प्राणायाम और कपाल भाती : यह हमारी श्‍वास नली को साफ करने  प्रदूषण के दुष्प्रभाव से भी मुकाबला करने में मदद करता है प्रदूषण से बचाव के लिए आप इन आसनों का नियमित रूप से एक्सरसाइज करें

4. अभयंगा तेल मसाज: इस तरीका से हमारे स्कीन (Skin) के अंदर मौजूद उन विषाक्त पदार्थ (Toxins) से छुटकारा पाने में मदद करता है, जो स्कीन (Skin) में चले जाते हैं हमारे बॉडी को विषाक्त पदार्थ (Toxins) से छुटकारा दिलाने (detoxifying) में यह रामबाण साबित हो सकता है अभयंगा के लगातार इस्तेमाल आपके बॉडी को रोग से लड़ने की क्षमता को बढ़ाता है  आपको हमेशा ऊर्जावान रखता है आप तेल मसाज के लिए तिल के ऑयल (Sesame Oil) या फिर किसी अन्य आयुर्वेदिक ऑयल का प्रयोग कर सकते हैं

5. स्वेदना मतलब पसीना बहाने का कोशिश : पसीना बहाने की इस प्रक्रिया को आयुर्वेद में स्वेदना बोला जाता है सर्वांग (पूरा शरीर) को स्वेदना के माध्यम से जिसमें दशमूल जड़ी बूटी (दस पौधों की जड़ें) का उपयोग किया जाता है इससे हमारे बॉडी के अंदर मौजूद विषाक्त पदार्थ (Toxic Elements) बाहर करने में मदद करता है इसके अतिरिक्त आप फेसियल स्टीम का भी इस्तेमाल कर सकते हैंइसके लिए आप गर्म पानी में नीलगिरी ऑयल, तुलसी तेल, चाय के पेड़ का ऑयल  कैरम के बीज को मिलाकर चेहरे पर भाप ले सकते हैं 

6. नीम का पानी : इसके साथ स्कीन  बालों को धोकर भी आप अपनी स्कीन (Skin)  श्लेष्म झिल्ली(Mucous Membrance) में फंस गए प्रदूषक (pollutants) को साफ़ कर सकते हैं

7. धूपन : आप जड़ी-बूटीयों को जलाकर धुआं भी ले सकते हैं इसके लिए आप गूगल, करूर (Campour) अगुरु, लोबान, शालाकी जैसे जड़ी बूटीयों का प्रयोग कर सकते हैं जड़ी बूटियों को जलाने  इन जड़ी बूटियों के धुएं को सांस लेने की प्रक्रिया आयुर्वेद में धूंपन बोला जाता है इससे न केवल हवा शुद्ध होती है बल्कि यह एक प्रभावी कीटाणुशोधक (Insecticide) के रूप में भी कार्य करता है गूगल शालाकी जैसी जड़ी बूटियां को कमरे में जलाकर रखने से आप अवसाद (Depression)  चिंता (Anxiety) जैसी समस्या से भी दूर हो सकते हैं

8. संभव हो तो हवादार  खुले स्थानों में कुछ देर रहने का प्रयास करें  क्योंकि हवा का सही तरीके (Proper Ventilation)नहीं होने से आपको सिरदर्द  सुस्ती की समस्या हो सकती है  वैसे आम तौर पर आउटडोर हवा की गुणवत्ता है को इनडोर हवा से हमेशा बेहतर माना जाता है, लेकिन इस समय बेहतर होगा आप छोटी अवधि के लिए खिड़कियां को खोल कर रखें फायरप्लेस  वेंटिलेशन सिस्टम को साफ रखें

9. अगर संभव हो तो अलोवेरा, तुलसी, नीम, बांस, पीस लिली, अंग्रेजी आइवी, क्राइसेंथेमम्स, अरेका हथेली, मनी प्लांट जैसे पौधे अपने घर में उगाएं ये पौधे न केवल हवा को साफ करने में मदद करते हैंबल्कि नीम  तुलसी जैसे पौधे भी कई बीमारियों में बहुत ज्यादा उपयोगी होते हैं

10. आप हमेशा ताजा पके हुए गर्म भोजन करने का कोशिश करें साथ हीं अपने आहार(Food Diet)में अदरक  कैरम के बीज को भी शामिल करें श्वसन  प्रतिरक्षा प्रणाली( Respiratory and immunine system) को मजबूत करने के लिए तुलसी, पिपली, ट्रिफाला  घी का भी प्रयोग किया जा सकता है

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *