Thursday , May 23 2019
Loading...

प्रदूषण से बढ़ा हाई रिस्क गर्भधारण का खतरा, जानें

बदलती जीवनशैली, बढ़ता प्रदूषण  विवाह में देरी की वजह से स्त्रियों में ‘हाई रिस्क प्रेग्नेंसी’ बढ़ रही है. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, पिछले 5 वर्ष में इसमें 40 प्रतिशत से ज्यादा वृद्धि हुई है  अब ज्यादातर महिलाएं हाई रिस्क प्रेग्नेंसी से गुजर रही हैं. पैदा होने वाले अधिकतर बच्चे कुपोषण की स्थिति में होते हैं.

डॉ दीपा त्यागी बताती हैं कि पिछले कुछ वर्ष में हाई रिस्क प्रेगनेंसी तेजी से बढ़ी है. गर्भधारण के बाद हाई ब्लड प्रेशर, एनीमिया, थायरॉयड  अधिक आयु में गर्भधारण समेत 14 से ज्यादा ऐसे मुद्दे हैं जिनकी वजह हाई रिस्क प्रेग्नेंसी होती है. कोलंबिया एशिया अस्पताल की वरिष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉरंजना बेकन कहती हैं कि हाई रिस्क प्रेग्नेंसी से मां को जेस्टेशनल डायबीटीज होने का खतरा बढ़ जाता. प्रीक्लेम्पसिया  एक्लेम्पसिया भी होने कि सम्भावना है जिसमें आकस्मित ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है. इस समस्या के कारण इंट्रायूटरिन ग्रोथ रेस्ट्रिक्शन बच्चों के मुद्दे भी बढ़ रहे हैं.

“पिछले कुछ वर्ष में हाई रिस्क प्रेग्नेंसी तेजी से बढ़ी है. 14 से ज्यादा ऐसे मुद्दे हैं जिनकी वजह हाई रिस्क प्रेग्नेंसी होती है.-डॉ दीपा त्यागी, सीएमएस, जिला महिला अस्पताल


क्या है हाई रिस्क प्रेग्नेंसी

प्रेग्नेंसी से जुड़ी कुछ जटिल समस्याएं जो जच्चा-बच्चा के लिए बेहद खतरनाक होती हैं. बच्चों में कुपोषण या किसी विकार की संभावना बढ़ जाती है. ऐसे में बच्चे कम वजन, न्यूनतम प्रतिरोध क्षमता, कम ब्लड शुगर, कम ऑक्सिजन लेवल  अधिक लाल रक्त कण के साथ पैदा होते हैं जिससे उनका ब्लड फ्लो कम होता है.

क्यों बढ़ रहे मामले
डॉ दीपा त्यागी बताती हैं कि 30-32 वर्ष की आयु के बाद गर्भधारण करने में हाई रिस्क प्रेग्नेंसी का खतरा रहता है. इसके अतिरिक्त बढ़ते प्रदूषण, बदलती ज़िंदगी शैली, जंक फूड का ज्यादा प्रयोगइसकी वजह हो सकती हैं. डॉ रंजना बेकन कहती हैं कि हाइपरटेंशन, पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम, मोटापा, ओवरऐक्टिव या अंडरऐक्टिव थायरॉयड, एनीमिया, डायबीटीज  यौन संचारी बीमारियां भी गर्भधारण में होने वाले खतरों को बढ़ा देती हैं.

ऐसे करें बचाव
नियमित दिनचर्या अपनाएं
जंक फूड  नशे से बचें
व्यायाम जरूर करें
गर्भधारण से पहले जाँच करवाएं
गर्भ के दौरान नियमित जाँच कराएं
गर्भावस्था में पोषक आहार लें
वजन सामान्य से अधिक है तो सावधानी बरतें
पेंट की महक, पेसिव स्मोकिंह  अल्कोहल से बचें

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *