Wednesday , May 23 2018
Loading...

धर्म कर्म

आचार्य चाणक्य की मृत्यु आखिर कैसे हुई थी?

पुरातन काल में ऐसे कई लोग थे, जो विद्वान के रूप में जाने जाते थे. उन्ही में से एक आचार्य चाणक्य थे, जिन्होने अपनी कूटनीति से चन्द्रगुप्त मौर्य को सिंहासन दिलवाया. इनकी बातें वविचार इंसान के ज़िंदगी में एक परिवर्तन लाती है. खास बात तो यह है कि आज भी आचार्य चाणक्य की नीतियों का पालन किया जाता ...

Read More »

अपने ज़िंदगी में धन को ही सबसे ज्यादा महत्व देते हैं, लेकिन…

अपने ज़िंदगी में धन, तो हर इंसान कमाना चाहता है, इसे कमाने के लिए वह दिन रात मेहनत भी करता है. कुछ लोग अपने ज़िंदगी में धन को ही सबसे ज्यादा महत्व देते हैं, लेकिन असलियत में देखा जाए, तो धन मात्र एक ऐसा साधन है, जो आपकी सिर्फ आवश्यकता को ही पूरा कर सकता है, यह ...

Read More »

अपनी तिजोरी में हमेशा रखें कुबेर यंत्र

सभी के घरों में धन को रखने के लिए एक खास स्थान होती है। कई लोग अपने घर में धन, पैसों व गहनों को रखने के लिए तिजोरी बनवाते हैं। अगर आपके घर में भी तिजोरी है तो आपके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत महत्वपूर्ण है। आज हम आपको तिजोरी से जुड़े कुछ वास्तु टिप्स के बारे ...

Read More »

शिव जी के परिवार से शुरू हुआ था भाभी-ननद का झगड़ा

आपने बहुत से घरों में देखा होगा की भाभी-ननद में अक्सर नोक-झोंक होती रहती है।क्या आप जानते है, की इसका शुरुआत ईश्वर शिव के परिवार से हुआ था। ईश्वर शिव के परिवार से तो सभी परिचित है। लेकिन बहुत कम लोग ये जानते है, की ईश्वर शिव की एक बहन भी थी, जिसका उल्लेख बहुत कम ग्रंथों में ...

Read More »

इस मंदिर के दर्शन मात्र से दूर होता है कालसर्प दोष

व्यक्ति की कुंडली में कई प्रकार के ग्रह दोष हो सकते है,इन्ही में से एक कालसर्प दोष भी है। इस दोष का नाम सुनते हीकई लोग भय जाते है, की अब क्या होगा? लेकिन हम आपको बता दें, की जिस आदमी की कुंडली में कालसर्प दोष है, उन्हें डरने की बिलकुल भी आवश्यकता नहीं है, बस आपको ...

Read More »

जाने ‘खांडव वन’ से जुड़ी कुछ खास बाते

खंडवा: प्राचीन मान्यताओं के अनुसार मध्यप्रदेश के खंडवा शहर का प्राचीन नाम खांडववन था जो मुगलों व अंग्रेजो के आने से बोलचाल में धीरे धीरे खंडवा हो गया।मान्यतानुसार श्रीरामजी के वनवास के समय, यहाँ सीता माता को प्यास लगी थी तथा रामजी ने यहाँ तीर मारकर एक कुआँ बना दिया व उस कुँए को रामेश्वर ...

Read More »

दिन मे तीन बार रूप बदलती है धारी माता

उत्तराखंड हिंदुस्तान के पौराणिक स्थलों में से एक है, यहाँ का शांत वातावरण ऋषि-मुनियों को अपनी ओर आकर्षित करता है, इसी कारण से यह जगह तपोभूमि के लिए भी उपयुक्त माना जाता है। उत्तराखंड में ऐसे बहुत से मंदिर है, जो पौराणिक काल से यहाँ उपस्थित है।लेकिन यहाँ एक मंदिर ऐसा है, जिसके संबंध में यहाँ के ...

Read More »

जाने भगवन महावीर से जुड़े कुछ विशेष बात

सत्य व अहिंसा की जब भी बात होती है तो हमारे जहन में सबसे पहले महात्मा गांधी का नाम आता है लेकिन महात्मा गांधी से भी पहले एक ऐसी महान आत्मा ने इस जगत का अपने संदेशों के जरिये मार्गदर्शन किया था। जिन्होंनें सबसे पहले अहिंसा का मार्ग अपनाने के लिये लोगों को ...

Read More »

सकारात्मक ऊर्जा ही दूर करता है निगेटिव ऊर्जा को

संसार की सभी चीजों में दो प्रकार की ऊर्जा विद्यमान होती है, जिसमे से एक सकारात्मक ऊर्जा व दूसरी निगेटिव ऊर्जा होती है। इन्हीं दोनों ऊर्जा का असर आदमीऔर उसके विचारों को भी प्रभावित करता है। जिस आदमी के विचार सकारात्मक ऊर्जा से प्रभावित होते है, वह उल्टा परिस्थितियों का भी सामना दृढ़ताके साथ करता है व इन परिस्थितियों से बाहर निकल आता है। लेकिन जो आदमी निगेटिव ऊर्जा ...

Read More »

जाने ब्रम्हचारी हनुमान जी के विवाह से जुड़ी कथा

भगवान श्री राम के परमभक्त व माता अंजनी के लाल महावीर हनुमान अपनी भक्ति वसमर्पण के लिए तो प्रसिद्ध हैं ही साथ ही वे अपने ब्रम्हचर्य के लिए भी जाने जाते हैं। किन्तु बहुत कम लोग ही यह जानते हैं कि हमेशा ब्रम्हचर्य व्रत का पालन करने वाले बजरंगबली ने शादी भी किया था। हैदराबाद के खम्मम ...

Read More »