Saturday , February 16 2019
Loading...

धर्म कर्म

इस वजह से मनाई जाती है बैकुंठ चतुर्दशी

सभी इस बात से वाकिफ हैं कि कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को बैकुंठ चतुर्दशी बोला जाता है व वहीं इस दिन बैकुंठाधिपति ईश्वर विष्णु की पूजा करने का विधान माना जाता है। इसी के साथ आप सभी जानते ही होंगे कि इस बार बैकुंठ चतुर्दशी 22 नवंबर को यानी आज मनाई जा रही है। तो ...

Read More »

तेरहवीं पर खाना खातें हैं तो…ना करें ये काम

कहते हैं वास्तुशास्त्र एक ऐसा विज्ञान है, जो आदमी के आसपास के वातावरण के अनुसार ही उसकी सफलता व असफलता निर्धारित कर देता है। ऐसे में यह ज़िंदगी के हर पहलू पर अपनी छाप छोड़ देता है व इसका सबसे बड़ा प्रभाव देखने को मिलता है भोजन पर। आप सभी को बता दें कि महाभारत के अनुशासन पर्व में आए ...

Read More »

सिर्फ एक दिन खुलता है ईश्वर कार्तिकेय का मंदिर

ग्वालियर: जीवाजीगंज मार्ग स्थित ईश्वर कार्तिकेय के मंदिर के पट गुरुवार-शुक्रवार की दरम्यानी रात 12 बजे खोले गए, पुजारी ने प्रतिमा का अभिषेक कर श्रंगार किया. इसके बाद कार्तिक पूर्णिमा शुक्रवार के दिन प्रातः काल 4 बजे भक्तों के दर्शन के लिए मंदिर के पट खोले गए. दर्शनों के लिए भक्तों के पहुंचने का सिलसिला प्रातः काल से ही प्रारम्भ हो ...

Read More »

पूजा में गणेश ईश्वर को नहीं चढ़ाई जाती तुलसी इस वजह से

आप सभी इस बात से वाकिफ ही होंगे कि ईश्वर गणेश के पूजन में तुलसी का इस्तेमाल वर्जित है। ऐसे में कल एकादशी है जो सभी के द्वारा मनाई जाती है । कल यानी 19 नवंबर को सभी देवउठनी एकादशी मनाने जा रहे हैं जो बहुत ख़ास होती है। आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि इस दिन तुलसी शादी किया ...

Read More »

शालीग्राम व तुलसी की शादी करवाई जाती है इस वजह से देवउठनी एकादशी पर

आप सभी को बता दें कि देवउठनी एकादशी के दिन तुलसी शादी किया जाता है व वहीं कुछ लोग तुलसी शादी द्वादशी के दिन करते हैं। बोला जाता है कि यदि किसी आदमी की बेटी नहीं है तो वह इस दिन तुलसी शादी करने के बाद कन्या दान करने का पुण्य हांसिल कर सकता है। कहते हैं इस दिन के साथ ही मांगलिक ...

Read More »

दिवाली पर माँ काली की पूजा करते वक्त करें ये…

आप सभी को बता दें कि दीपावली के दिन माँ काली की पूजा की जाती है। ऐसे में मां दुर्गा का विकराल रूप हैं मां काली जिनकी पूजा कर सभी लाभों को पाया जा सकता है। ऐसे में इस बात को सभी जानते हैं कि दुष्‍टों का संहार करने के लिए मां ने यह ...

Read More »

आखिर क्यों मनाई जाती है रूप चौदस

आप सभी को बता दें कि दिवाली पर्व के अच्छा एक दिन पहले मनाई जाने वाली नरक चतुर्दशी को छोटी दीवाली, रूप चौदस व काली चतुर्दशी के नाम से भी जाना जाता है। ऐसे में मान्यता है कि कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी के विधि-विधान से पूजा करने वाले आदमी को सभी पापों से मुक्ति मिलती है। ऐसे में बोला जाता है कि इसी ...

Read More »

इस दिन है गोपाष्टमी, जानें

आप सभी जानते ही होंगे कि धार्मिक शास्त्रों के अनुसार दीपावली के अच्छा बाद आने वाली कार्तिक शुक्ल अष्टमी को गोपाष्टमी पर्व के रूप में मानते है व इस वर्ष यह पर्व 16 नवंबर यानी शुक्रवार को मनाया जाने वाला है। बोला जाता है कई स्थानों पर तिथियों के मतभेद के चलते यह पर्व 15 नवंबर, गुरुवार को भी मनाया ...

Read More »

जानिए, इस वजह से मनाई जाती है आंवला नवमी

आप सभी जानते ही होंगे कि कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को आंवला नवमी मनाई जाती है वइस बार यह नवमी 17 नवंबर को मनाई जाने वाली है। बोला जाता है पूरे उत्तर और मध्य हिंदुस्तान में इस नवमी का खास महत्व होता है व इस दिन महिलाएं संतान प्राप्ति व उसकी मंगलकामना के लिए यह व्रत पूरे विधि-विधान ...

Read More »

आंवला नवमी: आंवले के पेड़ के नीचे भोजन आज जरूर करना चाहिए, जानें

आप सभी को बता दें कि कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की नवमी को आंवला नवमी बोला जाता है जो आज है। जी हाँ, यह मानते है कि इसी दिन मां लक्ष्मी ने भूलोक पर ईश्वर विष्णु व शिव जी आंवले के रूप में एक साथ पूजा की थी व इसी पेड़ के नीचे बैठकर खाना भी खाया था। ऐसे ...

Read More »