Loading...
Breaking News

लेख विचार

छीजते विकल्पों का चक्रव्यूह

प्रसेनजीत बोस (वामपंथी अर्थशास्त्री) कोलकाता में गत रविवार को संपन्न हुई सीपीएम की केंद्रीय समिति की बैठक में मतदान के द्वारा पारित प्रस्ताव की बहुतेरी व्याख्याएं की जा रही हैं, जिनमें से कुछ अत्यंत भ्रामक भी हैं| सीपीएम के वर्तमान महासचिव सीताराम येचुरी साझा सहमति के कार्यक्रम की बुनियाद पर ...

Read More »

महत्वपूर्ण होंगे पूर्वोत्तर के चुनाव

राहुल महाजन (वरिष्ठ पत्रकार) नगालैंड, मेघालय और त्रिपुरा में चुनाव तारीखों की घोषणा के साथ ही चुनाव आयोग ने एक बेहद महत्वपूर्ण राजनीतिक संघर्ष का बिगुल फूंक दिया है| पूर्वोत्तर राज्यों में अब तक के ये बहुत रोचक विधानसभा चुनाव होंगे| असम, अरुणाचल और मणिपुर में सरकार बनाने के बाद ...

Read More »

किसानों की दुर्दशा सबसे बड़ी समस्या

आशीष वशिष्ठ स्वतंत्र भारत से पूर्व और स्वतंत्र भारत के पश्चात् एक लम्बी अवधि बीतने के बाद भी भारतीय किसानों की दशा में सिर्फ 19-20 का ही अंतर दिखाई देता है| जिन अच्छे किसानों की बात की जाती है, उनकी गिनती उंगलियों पर की जा सकती है| बढ़ती आबादी, औद्योगीकरण ...

Read More »

इंडिया मीन्स बिजनेस

इंडिया मीन्स बिजनेस, इस नए लुभावने नारे के साथ हाथ जोड़े प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक बड़ा सा पोस्टर दावोस शहर की एक इमारत पर चस्पा है| कहा जाता है कि सुंदरता देखने वाले की नजर में होती है| यह बात इस पोस्टर के संदर्भ में भी कही जा सकती ...

Read More »

संसदीय सचिव याने सत्ता सुख

ललित सुरजन आज 26 जनवरी है| गणतंत्र दिवस| भारतीय संविधान को अंगीकार तथा आत्मार्पित करने का दिन| उसकी रक्षा के लिए शपथ लेने का दिन| इस अवसर पर अपने देश की राजनीतिक व्यवस्था की एक बड़ी विडंबना मुझे ध्यान आती है| एक तरफ तो हमने इंग्लैण्ड की वेस्टमिंस्टर प्रणाली याने ...

Read More »

तेल के दाम बढ़ने का खेल

संदीप बामजई (वरिष्ठ पत्रकार) इस वक्त तेल के दामों में आग लगी हुई है और दाम बढ़ता ही जा रहा है| आगे के आसार भी इसके बढ़ते रहने के ही दिख रहे हैं| आखिर ऐसा क्यों है कि तेल के दामों में ठहराव देखने को नहीं मिल रहा है| इस ...

Read More »

लव जेहाद की रट लगाने वाले अब तो सबक लें

शीतला सिंह विडम्बना यह है कि देश के कट्टरपंथी अभी भी यही चाहते हैं कि युवतियां स्वेच्छा से जाति और धर्म के बंधन तोड़कर शादी न कर सकें| तभी वे बिना वजह अन्तरजातीय या अन्तरधार्मिक विवाहों के खिलाफ आन्दोलित होते रहते हैं| हिन्दू युवतियों और मुस्लिम युवकों की शादियों को ...

Read More »

महत्वपूर्ण होंगे पूर्वोत्तर के चुनाव

राहुल महाजन (वरिष्ठ पत्रकार) नगालैंड, मेघालय और त्रिपुरा में चुनाव तारीखों की घोषणा के साथ ही चुनाव आयोग ने एक बेहद महत्वपूर्ण राजनीतिक संघर्ष का बिगुल फूंक दिया है| पूर्वोत्तर राज्यों में अब तक के ये बहुत रोचक विधानसभा चुनाव होंगे| असम, अरुणाचल और मणिपुर में सरकार बनाने के बाद ...

Read More »

नाग के फन पर बुद्धि

नवीन जोशी (वरिष्ठ पत्रकार) हमारी पृथ्वी नागराज के फन पर टिकी हुई नहीं है, विज्ञान ने इसे बहुत पहले साबित कर दिया था| सूर्य पृथ्वी की नहीं, बल्कि पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा करती है, इसे साबित हुए सदियों बीत गये| बहुत पहले माना जाता था कि नागराज हिलते हैं, तो ...

Read More »

दावोस के बहाने विषमता का सच

कुमार प्रशांत (गांधीवादी विचारक) ऐसा कभी-कभार ही होता है कि सच खुद सामने आकर झूठ का पर्दाफाश कर देता है! ऐसा ही हुआ था, जब तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा अपने पद से विदा हो रहे थे| उन्होंने जाते-जाते कहा कि दुनिया की कुल संपत्ति का 50 प्रतिशत केवल 60 ...

Read More »