Wednesday , May 23 2018
Loading...

लेख विचार

श्रम के भूमंडलीकरण की जरूरत

कृष्ण प्रताप सिंह विडंबना देखिए कि भूमंडलीकरण के भरपूर व्याप जाने के बावजूद दुनिया के कई देशों में मजदूर दिवस सरकारी छुट्टी का दिन है, लेकिन अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के संस्थापक सदस्य भारत में नहीं| ऐसा क्यों है? दरअसल, 19वीं शताब्दी के नौवें दशक तक मजदूर अत्यंत कम व अनिश्चित ...

Read More »

यह कैसी सत्ता-संस्कृति

कृष्ण प्रताप सिंह उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में गत गुरुवार को एक मानवरहित रेलवे क्रासिंग पर हुई रेलगाड़ी व स्कूल बस की भिड़ंत में तेरह मासूम बच्चों की मौत से उद्वेलित लोगों का मौके पर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से सामना हुआ तो जैसा कि उन हालात में बहुत स्वाभाविक ...

Read More »

महाभियोग एक गंभीर मामला

कुलदीप नैय्यर  यह बिलकुल उद्दंडता है| सच है कि मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने |ससंींइंक भ्पही ब्वनतजके जज नारायण शुक्ला को लखनऊ के प्रसाद एजुकेशन ट्रस्ट, जो एक मेडिकल कालेज चलाता है, पर मुकदमा चलाने से रोका था| लेकिन यह कानून का वैसा उल्लंघन नहीं है कि इसके लिए भारत ...

Read More »

गोपनीय एजेंडे की यह यात्रा

आकार पटेल (कार्यकारी निदेशक, एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया) पच्चीस अक्तूबर, 1970 को पाकिस्तान के सैनिक-राष्ट्रपति याह्या खान ने वाशिंगटन में अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन से मुलाकात की| तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार हेनरी किसिंजर द्वारा दर्ज उन दोनों की बातचीत के ब्योरे के संबंध में व्हाॅइट हाउस का अत्यंत गोपनीय दस्तावेज ...

Read More »

कानून से बड़ा मजाक ‘‘हर्ष फायरिंग’’

प्रेम शर्मा सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट की रोक के बाद भी हर्ष फायरिंग नहीं रुक पा रही है| कानून से यह मजाक केवल यूपी में नही बल्कि पूरे देश में किया जा रहा है शादी समारोह हो या फिर जीत के जश्न के नाम पर कानून का जमकर मजाक उड़ाया ...

Read More »

मोदी सरकार और न्यायपालिका का संकट

राजेंद्र शर्मा पिछले एक हफ्ते की तीन घटनाओं ने देश की शीर्ष न्यायपालिका के गहरे संकट में होने की सचाई को ही नहीं इस संकट के असली कारणों को भी गाढ़े रंग से रेखांकित कर दिया है| इनमें एक प्रमुख घटना तो, मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा के खिलाफ सात विपक्षी ...

Read More »

अंगूठा चूसते हुए बच्चा सो जाता है

प्रभाकर चैबे  केन्द्र की भाजपा सरकार के पास अब जनता को देने के लिए कुछ भी नहीं है- आश्वासनों का पिटारा खाली हो चुका| जुमलेबाजी भी जरूरत से ज्यादा हो गई| भाजपा सरकार पूरी तरह फेल हो गई- हां न्यूज चैनल्स में भाजपा के प्रवक्ता अपनी सरकार को पास का ...

Read More »

ओ विद्रोही, महाकरुणामय!

परिचय दास बुद्ध का अर्थ है- जो संबुद्ध हो, जिसे संबोधि प्राप्त हो| हमारे समय में सम्यक दृष्टि का अभाव होता जा रहा है| संतुलन की कमी| यह कमी सब जगह परिलक्षित होती है- चित्त में, विचार में, जीवन में, देशीयता में पर्यावरण में| इसलिए बुद्ध की दृष्टि चाहिए, वैसा ...

Read More »

घटती ‘‘ नौकरियाॅ’’ बढ़ती मांग

प्रेम शर्मा एक समय था कि सरकारी नौकरी से लोग दूर भागते थे| आज स्थिति ठीक विपरीत है| नौकिरयों का अकाल आ गया है| सन् 2025 तक यह अकाल इतना खतरनाक हो जाएगा कि इसकी हम कल्पना भी नही कर पाएगे| इसके पीछे अगर विश्व बैंक का दबाव एक बड़ा ...

Read More »

बाबाओं के मायाजाल से बचें

आशुतोष चतुर्वेदी एक नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में जोधपुर की एक अदालत ने आसाराम को दोषी करार दिया है और उन्हें उम्रकैद की सजा सुनाई है| पिछले कुछ अरसे में कई बाबाओं का पर्दाफाश हुआ है और इनमें से कई जेल की सलाखों के पीछे हैं| इन बाबाओं का ...

Read More »