Saturday , February 16 2019
Loading...

लेख विचार

मुश्किल है इवीएम में छेड़छाड़

जगदीप छोकर इवीएम को लेकर बीते दिनों लंदन में हुए एक प्रेस कांफ्रेंस में जो बातें सामने आयीं, उसके बाद फिर से इवीएम हैकिंग पर चर्चा निकल पड़ी है| हालांकि, उस प्रेस कांफ्रेंस में जिस व्यक्ति को बोलना था, वह नहीं आया, लेकिन उसने स्काइप के जरिये अपनी बात रखी| ...

Read More »

चीन की आर्थिक मंदी के सबक

पुष्पेश पंत (विदेश मामलों के जानकार) चीन दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है, जो पिछले कई दशक से विश्व के किसी भी दूसरे देश की तुलना में सबसे तेज आर्थिक विकास दर दर्ज करती रही है| इसलिए, जब वहां मंदी की पदचाप सुनायी देती है, तो भारत समेत कई ...

Read More »

मोदी मायाजाल के सामने विपक्षी गठबंधन

प्रेम शर्मा मोदी सरकार के लाख दावों के बावजूद यह कहना गलत नही होगा कि देश की अधिकाधिक जनता मोदी सरकार के पाॅच साल बीतने के बाद आज भी परेशान है| जिस अपेक्षा के साथ युवा पीढ़ी ने 2014 में नरेन्द्र मोदी को सत्ता सौपी थी उस पर मोदी सरकार ...

Read More »

शराबबंदीः आगे का रास्ता

ललित सुरजन  छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणापत्र में शराबबंदी को एक महत्वपूर्ण बिन्दु बनाया था| सरकार बन जाने के बाद कर्जमाफी जैसे कुछ मुद्दों पर अमल होना शुरू हो गया है| किन्तु शराबबंदी पर ऐसा प्रतीत होता है कि अभी सरकार के भीतर सोच-विचार जारी है| स्वाभाविक ही ...

Read More »

रफालः मोदी का बोफोर्स

राजेंद्र शर्मा विरफाल लड़ाकू विमान सौदा, वाकई नरेंद्र मोदी का बोफोर्स सौदा साबित होने जा रहा है| कम से कम वरिष्ठड्ढ सम्मानित पत्रकारध् संपादक, एन राम के द हिंदू में इस सौदे के संबंध में ताजातरीन रहस्योद्ड्ढघाटन के बाद इसमें कोई शक नहीं रह जाना चाहिए कि आने वाले आम ...

Read More »

देशहित में नहीं है आरसीइपी

डॉ अश्वनी महाजन (एसोसिएट प्रोफेसर, डीयू) दुनिया के अलग-अलग देशों के बीच व्यापार को संचालित करने के बारे में विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) का निर्माण हुआ था| डब्ल्यूटीओ के समझौते के अनुसार, देशों के बीच व्यापार को बढ़ाने के लिए आयात शुल्कों को कम करने और गैर-टैरिफ बाधाओं को समाप्त ...

Read More »

मुद्दा क्यों नहीं नशामुक्ति का सवाल

योगेंद्र यादव (अध्यक्ष, स्वराज इंडिया) अगर औरतों को इस देश में एक दिन के लिए राजपाट मिल जाये, तो वे क्या फैसला करेंगी? आप जब, जहां चाहे औरतों के समूह से यह सवाल पूछ लें, आपको एक ही जवाब मिलेगा| लेकिन, हमारे लोकतंत्र में यह मुद्दा राष्ट्रीय चुनाव का मुद्दा ...

Read More »

उभर रहे हैं नए राजनीतिक समीकरण

अनिल सिन्हा विपक्षी पार्टियों की कोलकाता रैली ने विपक्ष की एकता सिद्ध कर दी है| इसने 2019 के चुनावों के संघर्ष की तस्वीर भी साफ  कर दी| भारतीय जनता पार्टी इस उम्मीद में थी कि यह संभव नहीं हो पायेगा| लेकिन एकता सिर्फ  जमीन पर ही नहीं उतरी है, बल्कि ...

Read More »

यूपी बनेगा 2019 के चुनावी महाभारत का कुरुक्षेत्र

जयशंकर गुप्त हस्तिनापुर की सत्ता के लिए कौरव और पांडवों के बीच का महाभारत अगर कुरुक्षेत्र में लड़ा गया था तो 2019 में इंद्रप्रस्थ यानी दिल्ली की सत्ता पर कब्जा जमाने के लिए सत्रहवीं लोकसभा के चुनावी महाभारत में उत्तरप्रदेश निर्णायक हो सकता है| प्रधानमंत्री पद के कम से कम ...

Read More »

संभावनाओं से भरा एक संबंध

डॉ नेहा सिन्हा (एसोसिएट फेलो, विवेकानंद इंटरनेशनल फाउंडेशन) भारत तथा दक्षिण अफ्रीका के पारस्परिक संबंधों की जड़ें इतिहास की गहराइयों तक फैली हुई हैं| चूंकि दोनों देशों की कहानियां कई उतार-चढ़ावों से होकर गुजरी हैं, इसलिए यह अत्यंत आवश्यक है कि इन दोनों देशों के संबंध स्नेह और सहानुभूति से ...

Read More »