Wednesday , May 23 2018
Loading...

लेख विचार

सीजफायर का समय उचित नहीं

अजय साहनी जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने रमजान शुरू होने से लेकर अमरनाथ यात्रा तक के दौरान घाटी में सीजफायर की अपील की थी, जिसे केंद्र सरकार ने मान लिया था| हालांकि, इस सीजफायर में किसी नये ऑपरेशन को नहीं शुरू करना था, लेकिन जवाबी कार्रवाई तो हर हाल ...

Read More »

हर देहरी पर दीप जले

चम्पारण में महात्मा गांधी मुण्डकोपनिषद में एक अनूठा शब्द प्रयोग में आया है, मध्यदीपिकान्याय|  इसका अर्थ है- देहली (देहरी) पर दीपक रखने से उसका प्रकाश भीतर-बाहर दोनों ओर पड़ता है| इसी को मध्यदीपिका या देहली दीपन्याय कहते हैं| जाहिर है सारी व्यवस्था फिर चाहे वह सामाजिक हो या राजनीतिक, आर्थिक ...

Read More »

रिश्तों की मजबूत होती गांठ

अरविन्द जयतिलक नेपाल से प्रगाढ़ता बढ़ाना न सिर्फ  धार्मिक-सांस्कृतिक संबधों के लिहाज से महत्वपूर्ण है बल्कि यह भी गौर करना होगा कि चीन द्वारा तिब्बत को हस्तगत कर लिए जाने के बाद भारत-चीन संबंधों में नेपाल की सामरिक व कूटनीतिक स्थिति का भी महत्व बढ़ गया है| यही कारण है ...

Read More »

शेयर बाजार की सर्वोच्च न्यायालय के प्रति तटस्थता

डॉ.हनुमंत यादव 2018 साल की शुरूआत मुंबई शेयर बाजार के 30 चोटी के शेयरों के संकेतांक सेंसेक्स के दो कीर्तिमानों से हुई| जनवरी 2018 में सेंसेक्स ने पहला कीर्तिमान सेंसेक्स ने 17 जनवरी को 35,000 बिन्दु पार करके स्थापित किया| दूसरा कीर्तिमान 23 जनवरी को 36,000 बिन्दु पार करके किया| ...

Read More »

अब भरेगा भारतीय आयुध का खजाना

प्रेम शर्मा जी हाॅ लम्बे अरसे से भारतीय सेना इन दिनों गोला-बारूद की भारी कमी से जूझ रही है| सन 2017 में ,संसद में रखी गई नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक की रिपोर्ट मे कहा जा चुका है ,कोई युद्ध छिड़ने की स्थिति में सेना के पास महज 10 दिन के लिए ...

Read More »

बेरोजगारी की गंभीर चुनौती

आशुतोष चतुर्वेदी कुछ दिन पहले बिहार के मुंगेर जिले से एक चैंकाने वाली खबर आयी कि रेलवे में नौकरी के लिए बेटे ने अपने पिता की हत्या की सुपारी दे दी| खबर बहुत सुर्खियों में नहीं आ सकी, इसलिए बहुत लोगों का ध्यान इस ओर नहीं गया| रेलवे कर्मचारी को ...

Read More »

सत्य की मुद्रा में असत्य

कुमार प्रशांत सेवाग्राम की बापू-कुटी के भीतर की एक दीवार पर, जिसके सम्मुख गांधीजी बैठा करते थे, कुछ सुवाक्य लिखकर टांगे हुए हैं| वे आज के नहीं हैं, बापू के वक्त के हैं| उसमें एक वाक्य कहता है कि झूठ कई तरह से बोला जाता है- मौन रखकर भी और ...

Read More »

आजादी के सत्तर साल बाद भी दो गज जमीन के मोहताज हैं बहादुरशाह जफर

कृष्ण प्रताप सिंह 18 57 में दस मई को आजादी के जुनून से भरे हुए देसी सैनिक मेरठ से बगावत का बिगुल बजाते हुए ग्यारह मई को दिल्ली पहुंचे तो भारत के 17वें और अंतिम मुगल बादशाह मिर्जा अबू जफर सिराजुद्दीन मोहम्मद बहादुर शाह जफर   जिन्हें आमतौर पर बहादुरशाह जफर ...

Read More »

70 साल में देश में कुछ न होने का सर्टिफिकेट बांट रहे

प्रभाकर चैबे  महाभारत में एक प्रसंग है| एक विद्वान ऋषि पुत्र तथा दूसरे विद्वान ऋषि पुत्र के बीच शास्त्रार्थ रखा जाता है और इसका निर्णायक पहले ऋषि पुत्र के पिता को बनाया जाता है| एक अन्य विद्वान ऋषि इस पर अपनी राय रखते हैं कि हे ऋषिवर आप पर बड़ा ...

Read More »

नवाज ने उतारे पाक के कपड़े

प्रेम शर्मा पाकिस्तान की असलियत एक बार कई बार  दुनिया के सामने आ गई है| मुम्बई हमले को लेकर पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ का बयान इस कड़ी में काफी महत्वपूर्ण है इस बयान के आधार पर ही विश्व पटल में पाकिस्तान को प्रतिबंधित एवं आतंकवादी देश घोषित किया ...

Read More »