Saturday , February 16 2019
Loading...

लेख विचार

सत्ता कुसुम, रस-लोभी भ्रमर व अन्य बातें

ललित सुरजन छत्तीसगढ़ में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है| इसके बरक्स प्रदेश के राजनैतिक-सामाजिक वातावरण में एक आश्वस्तिकारी गर्माहट का अनुभव हो रहा है| आम जनता को लग रहा है कि सरकार सचमुच उसके पास आ गई है| मुख्यमंत्री और उनके सहयोगी इन दिनों सोलह-सोलह घंटे काम ...

Read More »

बेनामी संपत्ति की समस्या

आयकर विभाग की ओर से दी गई यह सूचना कोई बहुत उत्साहित करने वाली नहीं है कि उसने बेनामी लेन-देन (निषेध) अधिनियम के तहत अब तक 6,900 करोड़ रुपए की संपत्तियां जब्त की हैं| नवंबर 2016 में जब बेनामी संपत्ति संबंधी अधिनियम में संशोधन किया गया था तो यह माना ...

Read More »

बंगाल की खाड़ी से बवंडर

मृणाल पांडे (ग्रुप सीनियर एडिटोरियल) मूल मंशा चाहे जो रही हो, केंद्र से आये सीबीआई के जत्थे का यकायक कोलकाता के पुलिस कमिश्नर के घर पर नाटकीय धावा बोल देना बंगाल की खाड़ी से उठा एक बीहड़ बवंडर दिख रहा है| इसने देखते-देखते सारे देश को गिरफ्त में लेकर समूचे ...

Read More »

गंगा का व्यावसायिक दोहन और सरकार का रूख

संदीप पाण्डेय केन्द्र सरकार ने गंगा के मुद्दे पर संघर्षरत साधुगणों के अनशन को नजरअंदाज करने की रणनीति अपनाई हुई है| दूसरी ओर गागा का व्यावसायिक दोहन निहित स्वार्थी तत्वों की वजह से खतरे में पड़ गया है| इसी तरह गंगा के किनारे अन्य जगहों पर भी रहने वाले पारम्परिक ...

Read More »

राममंदिर के प्रश्न पर अतिवाद का अंजाम?

शीतला सिंह भारतीय जनता पार्टी और उसके नेतृत्व वाली केन्द्र सरकारें राममंदिर आन्दोलन को लेकर किस तरह अलग अलग वक्त पर अलग-अलग राग अलापती रही हैं, आज की तारीख में यह किसी से भी छिपा नहीं है| अब इस आन्दोलन को राजनीतिक लाभ की दृष्टि से देखने वाला उनका पितृसंगठन ...

Read More »

समाज को हिंसक होने से रोकिए

कुमार प्रशांत मुझे यह जानने में कोई दिलचस्पी नहीं है कि अलीगढ़ में अखिल भारत हिंदू महासभा के जिन लोगों ने 30 जनवरी, 2019 को महात्मा गांधी को ‘सामने खड़ा करके¦’ फिर से गोली मारने का कुत्सित खेल खेला, वे कौन थे, उनकी गिरफ्तारी हुई या नहीं और गिरफ्तारी नहीं ...

Read More »

किसानों को मिले दीर्घकालिक हल

आशुतोष चतुर्वेदी  मोदी सरकार की ओर से पेश किया गया अंतरिम बजट वैसे तो समाज के हर वर्ग को साधने वाला है, लेकिन यह छोटे किसानों पर विशेष मेहरबान है| अंतरिम वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने बजट में किसानों, मजदूरों और मध्य वर्ग को ध्यान में रखते हुए कई घोषणाओं ...

Read More »

सवाल उठाने वालों की हकीकत

ए. सूर्यप्रकाश मोदी सरकार द्वारा नानाजी देशमुख, प्रणब मुखर्जी और भूपेन हजारिका को भारत रत्न से सम्मानित किए जाने का देशभर में जहां व्यापक रूप से स्वागत हुआ, वहीं कुछ स्वर इसके विरोध में भी उभरे| खासकर कुछ कांग्र्रेसी इससे कुपित हैं, जो सरकार पर अपने कथित वफादारों को सम्मानित ...

Read More »

झूठ का सिलसिला

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से राफेल सौदे को लेकर किए गए दावे पर गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का प्रतिवाद उन्हें केवल झूठा ही नहीं साबित कर रहा, बल्कि राजनीतिक शिष्टाचार की मर्यादा का उल्लंघन करने वाला भी बता रहा है| आखिर राहुल गांधी ...

Read More »

प्रार्थना पर औचित्यहीन प्रश्न

शंकर शरण सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ अब इस पर विचार करेगी कि केंद्रीय विद्यालयों में बच्चों को संस्कृत में प्रार्थना करना उचित है या नहीं? असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय और कुछ अन्य प्रार्थनाओं पर आपत्ति जताने वाली याचिका पर सर्वोच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश ने कहा, चूंकि ...

Read More »