Wednesday , August 22 2018
Loading...

लेख विचार

क्या चार राज्यों में एक साथ होंगे लोकसभा चुनाव

उपेन्द्र प्रसाद भारत के निर्वाचन आयोग ने कहा है कि वह राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम के साथ इस साल के दिसंबर में लोकसभा चुनाव करवाने को तैयार है| यह कुछ अटपटा लगता है, क्योंकि अभी तक सरकार ने आयोग से आधिकारिक तौर पर लोकसभा चुनाव समय से पहले करवाने ...

Read More »

आज किस पार्टी को फिक्र है दलितों की?

राम पुनियानी अत्याचार निवारण अधिनियम में अग्रिम जमानत का प्रावधान कर उसे कमजार करने के प्रयास का देश-व्यापी विरोध हुआ| विरोध प्रदर्शनों का मूल स्वर यह था कि भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार दलित-विरोधी है| बढ़ते विरोध के मद्देनजर, सरकार को एक विधेयक के जरिये इस अधिनियम में संशोधन ...

Read More »

बैंको को आक्सीजन की दरकार

प्रेम शर्मा बैंक देश की अर्थव्यवस्था के वाहक हैं, सामाजिक-आर्थिक तब्दीली के सबसे कारगर यंत्र भी, लेकिन बैंकिंग व्यवसाय की अंदरूनी स्थिति चरमरा रही है| भारतीय अर्थव्यवस्था के बैंक रीढ़ हैं| पिछले कुछ वर्षों से देश के सामाजिक-आर्थिक हालात बदलने में भी बैंक सरकार की एकमात्र प्रभावी एजेंसी के रूप ...

Read More »

भारत को बैल्ट रोड से जुड़ना चाहिए

डॉ. भरत झुनझुनवाला पाकिस्तान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान ने पूर्व में चीन द्वारा बढ़ाए गए बैल्ट रोड इनिशिएटिव का विरोध किया था लेकिन अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने उसी बैल्ट रोड का समर्थन किया है| उनका पलटी खाना यह दिखाता है कि बैल्ट रोड पाकिस्तान के लिए कितना महत्वपूर्ण ...

Read More »

लौट कर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं

शेष नारायण सिंह अपनी तरह की राजनीति के दर्शन के प्रणेता, अटल बिहारी वाजपेयी का जाना देश की कई पीढ़ियों के लिए कुछ गंवा देने की अनुभूति जैसा है| अटल जी मौत से कभी नहीं डर| जब बीमार हुए तो उन्होंने मौत को चुनौती देती हुई एक कविता भी लिखी| ...

Read More »

हजारों खाली फ्लैट और बेघर लोग

सुभाष गाताडे देश में तेजी से हो रहे औद्योगिकीकरण और नये-नये इलाकों में आप्रवासियों के लिए बनते नये उपनगरों में अनुमान के हिसाब से लोगों के न पहुंचने से वहां बिल्कुल खाली पड़े लाखों मकानों के बारे में अक्सर चर्चा होती है| कहा जा रहा है कि चीन में पचास ...

Read More »

न्यूनतम मजदूरी का सवाल

मनींद्र नाथ ठाकुर (एसोसिएट प्रोफेसर, जेएनयू) बढ़ती महंगाई को देखते हुए देश में क्या न्यूनतम मजदूरी को बढ़ाया जाना चाहिए? यह सवाल इसलिए भी उठ खड़ा हुआ है, क्योंकि दिल्ली और ओड़िशा के सरकारों ने इसमें महत्वपूर्ण पहल करने का निर्णय लिया है? पूंजीवादी विकास के तीन आधार हैं और ...

Read More »

पुराने भारत को खत्म करके बनेगा न्यू इंडिया

पिछले 4 सालों से प्रधानमंत्री मोदी यूपीए सरकार को कोसते आये हैं, और लालकिले से अपने इस कार्यकाल के अंतिम सम्बोधन में भी उन्होंने यही किया| 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले के इस सम्बोधन में मोदीजी ने चुनावी बिसात बिछा दी| एक ओर उन्होंने अपनी सरकार के लिए सौ ...

Read More »

वाजपेयी और आरएसएस की मुखौटे की खोज

राजेंद्र शर्मा                    भाजपा और उसके माध्यम से उसके संचालक, आरएसएस को धर्मनिरपेक्ष संविधान के अंतर्गत देश की सत्ता के केंद्र तक पहुंचाने के बाद प्रधानमंत्री को पद पर बैठे अटलबिहारी वाजपेयी को, भाजपा के तत्कालीन महासचिव गोविंदाचार्य ने ब्रिटिश कूटनीतिज्ञों के साथ बातचीत में जब भाजपा तथा उसके नेतृत्ववाली सरकार ...

Read More »

आज किस पार्टी को फिक्र है दलितों की?

राम पुनियानी अत्याचार निवारण अधिनियम में अग्रिम जमानत का प्रावधान कर उसे कमजार करने के प्रयास का देश-व्यापी विरोध हुआ| विरोध प्रदर्शनों का मूल स्वर यह था कि भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार दलित-विरोधी है| बढ़ते विरोध के मद्देनजर, सरकार को एक विधेयक के जरिये इस अधिनियम में संशोधन ...

Read More »