Tuesday , November 20 2018
Loading...
Breaking News

लेख विचार

फर्क लाने वाली अनूठी विदेश मंत्री

गोपालकृष्ण गांधी सुषमा स्वराज विदेश मंत्री के रूप में पांच साल पूरे करने जा रही हैं| इस मंत्रालय का पूर्णकालिक प्रभार संभालने वाली वह पहली व इकलौती महिला हैं| अतीत में इंदिरा गांधी भी इसका प्रभार संभाल चुकी हैं, लेकिन तब वे प्रधानमंत्री भी थीं| यह एक ऐसी उपलब्धि है, ...

Read More »

अयोध्या पर बढ़ता इंतजार

यह निराशाजनक है कि सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या विवाद की निर्णायक सुनवाई एक बार फिर टल गई| चूंकि इस मामले की सुनवाई में पहले ही बहुत देर हो चुकी है, इसलिए उम्मीद की जा रही थी कि सुप्रीम कोर्ट अब यह सुनिश्चित करेगा कि इसमें और विलंब न हो, लेकिन ...

Read More »

राजनीतिक भाषा की मर्यादा

आकार पटेल कार्यकारी निदेशक, (एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया) बीते हफ्ते मेरे कार्यालय में छापा मारने आये जांच एजेंसी के एक व्यक्ति से मेरी बातचीत हुई थी| वह ठीक मेरी उम्र का था और उसने जो कुछ भी कहा, उससे मैं आश्चर्यचकित था| उसने क्या कहा, यह बाद में बताऊंगा| पहले अमेरिका ...

Read More »

अहम है आरबीआइ की आजादी

अजीत रानाडे भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) की स्थापना भारत की आजादी से भी बारह वर्षों पूर्व हुई थी| अपने आठ दशकों के जीवन काल में इसने उच्चतम वैश्विक मानकों के अनुरूप कार्यप्रणाली से एक विशिष्ट मुकाम हासिल किया है| आज यह वैसे कुछेक राष्ट्रीय संस्थानों में एक है, जिन्हें उनकी ...

Read More »

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों की पूंजी बाजार से निकासी

डॉ. हनुमंत यादव शेयर बाजार के लिए अक्टूबर महीना बहुत बुरा बीता| कई शेयरों की कीमतें पिछले 12 महीनों में निम्नतर स्तर पर गिर गई हैं| अनेक कंपनियों के तिमाही कामकाज का खराब प्रदर्शन भी इस गिरावट का एक बड़ा कारण रहा है| 26 अक्टूबर को सेंसेक्स में सूचीकृत 30 ...

Read More »

गांधीजी पटेल और नेहरू को बैलों की जोड़ी कहते थे

एल.एस. हरदेनिया नेहरू और पटेल एक दूसरे के पूरक व्यक्ति थे| नेहरू का वैचारिक आधार फेबियन विचारधारा थी, जिसके अनुसार संसदीय प्रजातंत्र मानवीय आकांक्षाओं की पूर्ति का सबसे अधिक शक्तिशाली साधन है| वहीं सरदार पटेल मानवीय मनोविज्ञान के अध्येता थे| उन्होंने उन आधारों को समझने का प्रयास किया था जिनसे ...

Read More »

राम मंदिरः फिर बेतलवा डाल पर

राजेंद्र शर्मा  बचपन में पढ़ी विक्रम और बेताल की हरेक कथा का अंत एक ही तरह से होता था| विक्रम से अपने सवाल का सही जवाब सुनने के बाद, बेताल ने विक्रम के कंधे पर पड़ा शव उठाया और पेड़ पर जा बैठा| कहानी का यह अंत अगली कहानी का ...

Read More »

एक बार फिर काठ की हांडी चढ़ाने के फेर में हिन्दुत्ववादी संस्थाएं

लोकसभा चुनाव को देखते हुए संघ भाजपा और शिवसेना, विश्व हिन्दू परिषद, अन्तरराष्ट्रीय हिन्दू परिषद व अन्य ऐसे ही संगठन व राजनीतिक दलों के लोगों को राम और उनका मंदिर याद आने लगा है जो 2019 तक वोट पड़ने तक याद रहेगा|भारतीय जनमानस में यह याद रहे इसलिए ये सारी ...

Read More »

भूखों मर रहा भारत, दोष किसका

जयप्रकाश पाण्डेय दुनिया की सबसे तेज गति से बढ़ती अर्थव्यवस्था वाले देश भारत के लिए 30 दिनों के भीतर ही विकास और भूखमरी को लेकर आई दो रिपोर्टें बेहद चैंकाने वाली और चिंताजनक हैं| ये रिपोर्टें बताती हैं कि तरक्की के तमाम दावों के बीच समूचे देश के विकास और ...

Read More »

शिष्टाचार की प्रतिमूर्ति एनडी तिवारी

आरके सिन्हा (सांसद, राज्यसभा) उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कई बार मुख्यमंत्री रहे एवं भारत सरकार के वित्त मंत्री और विदेश मंत्री जैसे पदों पर रहे पंडित नारायण दत्त तिवारी लगातार पांच दशकों से ज्यादा सेवा देनेवाले देश के मूर्धन्य राजनीतिज्ञ, विद्वान, चिंतक और प्रखर वक्ता थे| उनके देहावसान के ...

Read More »