Loading...
Breaking News

लेख विचार

भाजपा क्या चाहती है मंदिर या विकास

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह कहते हैं कि राहुल गांधी राम मंदिर पर अपना रुख साफ करें| कुछ ऐसा ही सवाल अमित शाह, नरेन्द्र मोदी और तमाम भाजपा से भी किया जा सकता है कि वे भारत पर शासन करने की अपनी नीति साफ करें| पिछले तीन सालों में तो भाजपा ...

Read More »

राहुल गांधी में नया क्या है?

कुमार प्रशांत (गांधीवादी विचारक) चाह तो सभी रहे थे- पार्टी भी और लोग भी कि कांग्रेस को अपना यह आखिरी हथियार भी आजमा ही लेना चाहिए| तो उसने आजमा लिया और राहुल गांधी कांग्रेस के नये अध्यक्ष बन गये| कोई पूछे कि राहुल में नया क्या है, तो जवाब आसान ...

Read More »

अरब के एजेंडे में फिलिस्तीन नहीं

कमर आगा (विदेश मामलों के जानकार) बहुत जमाने से अमेरिका यह कोशिश कर रहा था कि येरूशलम को इस्राइलकी राजधानी बनायी जाये| जब भी वहां चुनाव होते थे और जो नेता मैदान में होते थे, वे एक दफा इस बात को जरूर मानते थे कि ऐसा होना चाहिए| इस वक्त ...

Read More »

स्वास्थ्य एवं शिक्षा में जरूरी है सुधार

डॉ. भरत झुनझुनवाला अमेरिका में स्वास्थ्य सेवाओं के महंगेपन को देखें तो हम बहुत अच्छे हैं| अपने यहां तमाम रोगों को केमिस्ट ही ठीक कर देते हैं| होम्योपैथी, आयुर्वेदिक तथा एलोपैथिक डॉक्टरों की भरमार है| डॉक्टरों की फीस अक्सर 100 से 500 रुपए होती है जो कि अमेरिका की 13,000 ...

Read More »

भाजपा भी परिवारवाद से अछूती नहीं

एल.एस. हरदेनिया परिवारवाद अकेले कांग्रेस में नहीं है| यदि कांग्रेस का इतिहास देखें तो अनेक अवसरों पर कांग्रेस के बड़े पदों पर चुनाव हुए हैं| यहां तक कि इंदिरा गांधी, मोरारजी भाई को हराकर प्रधानमंत्री बनी थीं| इस बात को भी स्मरण रखना चाहिए कि इंदिरा गांधी उनके पिता जवाहरलाल ...

Read More »

राहुल गांधी में नया क्या है?

कुमार प्रशांत (गांधीवादी विचारक) चाह तो सभी रहे थे- पार्टी भी और लोग भी कि कांग्रेस को अपना यह आखिरी हथियार भी आजमा ही लेना चाहिए| तो उसने आजमा लिया और राहुल गांधी कांग्रेस के नये अध्यक्ष बन गये| कोई पूछे कि राहुल में नया क्या है, तो जवाब आसान ...

Read More »

अरब के एजेंडे में फिलिस्तीन नहीं

कमर आगा (विदेश मामलों के जानकार) बहुत जमाने से अमेरिका यह कोशिश कर रहा था कि येरूशलम को इस्राइलकी राजधानी बनायी जाये| जब भी वहां चुनाव होते थे और जो नेता मैदान में होते थे, वे एक दफा इस बात को जरूर मानते थे कि ऐसा होना चाहिए| इस वक्त ...

Read More »

उप्र नगर निकाय चुनावः जो जीता वही सिकंदर, मगर कैसा?

राजेंद्र शर्मा बेशक, नगर निगमों के चुनाव में भाजपा की उल्लेखनीय जीत हुई है और ऐतिहासिक तथा अभूतपूर्व जैसे विशेषण इसी जीत को पूरे चुनाव पर फैलाने पर आधारित हैं| राज्य के कुल 16 नगर निगमों में से दो, अलीगढ़ तथा मेरठ को छोड़कर, बाकी सभी में नगर प्रमुख के ...

Read More »

अयोध्या मुद्दे का निर्णयः न्यायिक से अधिक राजनीतिक महत्व

शीतला सिंह अयोध्या मुद्दे का शीघ्र निर्णय इसलिए भी अपेक्षित है, जिससे यह राजनीति से और राजनीति इससे मुक्त होने की दिशा में बढ़ सके| इस विवाद के चलते संवैधानिक मूल्यों व मान्यताओं पर आधारित देश की व्यवस्था के न्यायिक, सामाजिक, राजनीतिक, प्रशासनिक और संवैधानिक निकायों व मंचों को जो ...

Read More »

अर्थव्यवस्था में नहीं आए अच्छे दिन

वित्तमंत्री अरुण जेटली का कहना है कि भारत की अर्थव्यवस्था पिछले तीन सालों में काफी तेजी से बढ़ी है| उन्होंने बढ़ती महंगाई पर कांग्रेस के आरोपों को निराधार करार देते हुए यह भी कहा है कि आंकड़ों पर नजर डालें तो आम तौर पर महंगाई में गिरावट दर्ज की गई ...

Read More »