Loading...
Breaking News

लेख विचार

सेना-नागरिक आमने-सामने

बीते कुछ बरसों में राजनीति ने ऐसा माहौल बना दिया है कि एक ओर सैनिकों की वाहवाही होती है, दूसरी ओर उन्हें मौत के मुंह में धकेला जा रहा है| एक ओर उनके बलिदान के किस्से सुनाए जाते हैं, दूसरी ओर उन्हें सुविधाओं के लिए तरसना पड़ रहा है| अपनी ...

Read More »

भारत-फिलीस्तीन संबंध-संतुलन

एम रेयाज इसी महीने की 10 तारीख को नरेंद्र मोदी का वेस्ट बैंक में रमल्ला जाना किसी भी भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा फिलीस्तीन की इस राजधानी का पहला दौरा था| इसके साथ ही इस्राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से उनकी प्रगाढ़ मित्रता की पृष्ठभूमि में यह भारत द्वारा फिलीस्तीनी हितों के सतत ...

Read More »

अलवर- अक्षजमेर को आजमगढ़ – चिकमगलूर में बदल पायेगी कांग्रेस

कृष्ण प्रताप सिंह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जतन से गढ़े गये महानायकत्व के लगातार विस्तार के दावों के बीच भाजपा को अजेय घोषित करते हुए अनेक तर्कशास्त्री जिस तरह बार-बार कहते आ रहे थे कि कांगे्रस का निकट भविष्य में उसके खिलाफ जीत का फार्मूला तलाश पाना कठिन है, उसके ...

Read More »

औपचारिक क्षेत्र में रोजगार की कमजोर स्थिति

डॉ. हनुमंत यादव भारत सरीखे विकासशील अर्थव्यवस्था वाले देशों में आर्थिक विकास के मापन के दो प्रमुख मानदंड अपनाए जाते हैं| पहला पूंजी निवेश से उत्पादन में कितनी वृद्धि हुई तथा दूसरा पूंजी निवेश से रोजगार सृजन में कितनी वृद्धि हुई| अर्थव्यवस्था, परियोजना, औद्योगिक उपक्रम में विकास की वर्तमान स्थिति ...

Read More »

माणिक के बदले हीरा

रविभूषण (वरिष्ठ साहित्यकार) विश्व के किसी भी नेता की तुलना में नरेंद्र मोदी शब्दाडंबर, शब्दजाल, शब्द चातुर्य और लेष-प्रयोग में अकेले और अनोखे हैं| शब्द क्रीड़ा उन्हें प्रिय है और उनकी वाक्पटुता और शब्दाभिप्राय को बदलने की क्षमता-दक्षता का अन्य कोई उदाहरण नहीं है| माणिक और हीरा दोनों नवरत्न हैं, ...

Read More »

एचइसी को बचाने आगे आएं

आशुतोष चतुर्वेदी बिहार और झारखंड की सबसे बड़ी चुनौती है बड़े उद्योगों का अभाव| आजादी के बाद अनेक स्थानों पर सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयां लगीं, लेकिन इस क्षेत्र की अनदेखी कर दी गयी| इस पूरे क्षेत्र में सार्वजनिक क्षेत्र की गिनी-चुनी इकाइयां हैं, जिनमें से एक है भारी उद्योग निगम ...

Read More »

महिला आरक्षण विधेयक- लम्बी छुट्टी में…

प्रभाकर चैबे बजट सत्र के अपने सम्बोधन में राष्ट्रपति जी महिला आरक्षण विधेयक पर कुछ बोलेंगे, ऐसी उम्मीद थी| लेकिन वे कुछ बोले नहीं| यह विधेयक किस खाने में ठूंसकर रख दिया गया है, यह तक पता नहीं| राष्ट्रपति जी ने महिला सशक्तिकरण की बात की- कहा कि मेरी सरकार ...

Read More »

अयोध्या विवाद भूमि विवाद है तो…

शीतला सिंह अयोध्या विवाद के सिलसिले में जहां एक ओर सर्वोच्च न्यायालय में हो रही सुनवाई पर सारे देश की निगाहें लगी हैं, वहीं, न्यायालय के बाहर भी समाधान व समझौते के प्रयास किये जा रहे हैं| इस क्रम में तीन मूल दावेदारों के अलावा समाजविदों व सामाजिक कार्यकर्ताओं के ...

Read More »

संत वैलेन्टाइन को सच्ची श्रद्धाजंली देने के लिए 14 फरवरी

‘वैलेन्टाइन दिवस’ को ‘पारिवारिक एकता दिवस’ के रूप में मनायें: डाॅ. जगदीश गांधी संसार को ‘परिवार बसाने’ एवं ‘पारिवारिक एकता’ का संदेश देने वाले महान संत वैलेन्टाइन के ‘मृत्यु दिवस’ को आज भारतीय समाज में जिस ‘आधुनिक स्वरूप’ में स्वागत किया जा रहा है, उससे हमारी भारतीय संस्कृति एवं सभ्यता ...

Read More »

धन्यवाद प्रस्ताव पर निंदा भाषण

मोदीजी को शायद अब तक ये भरोसा नहीं हुआ है कि वे सचमुच इस देश के प्रधानमंत्री बन गए हैं| उनकी महत्वाकांक्षाओं से तो जनता अच्छे से वाकिफ है| बीते चार-पांच सालों में चुनावी रैलियों में वे सब कुछ पा लेने की उत्कट इच्छा का प्रदर्शन भी करते रहे हैं| ...

Read More »